DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › BJP नेताओं से मिलने के लिए आए हैं दिल्ली? कैप्टन अमरिंदर ने दिया यह जवाब
पंजाब

BJP नेताओं से मिलने के लिए आए हैं दिल्ली? कैप्टन अमरिंदर ने दिया यह जवाब

हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Gaurav Kala
Tue, 28 Sep 2021 06:21 PM
BJP नेताओं से मिलने के लिए आए हैं दिल्ली? कैप्टन अमरिंदर ने दिया यह जवाब

पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने दिल्ली दौरे को निजी दौरा बताया है। बीजेपी में शामिल होने की अटकलों को विराम देते हुए कैप्टन ने खुद कहा कि वे यहां अपने दोस्तों से मिलेंगे और कपूरथला हाउस को खाली करेंगे. कैप्टन ने नवजोत सिंह सिद्धू के पीसीसी चीफ पद से इस्तीफे की बात पर भी रिएक्शन दिया है।

आज पंजाब कांग्रेस में बड़ी घटना हुई। नवजोत सिंह सिद्धू ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। माना जा रहा है कि सीएम चरणजीत सिंह चन्नी से नाराजगी के बाद सिद्धू ने ऐसा कदम उठाया। उधर, सिद्धू और अमरिंदर के बीच झगड़े किसी से छिपे नहीं हैं। हालांकि सिद्धू ने कभी भी खुलकर अमरिंदर के खिलाफ कुछ नहीं कहा, लेकिन कैप्टन कई बार सिद्धू के खिलाफ बोल चुके हैं। आज भी मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में अमरिंदर सिंह ने कहा कि मैं पहले ही कह चुका हूं कि वो (नवजोत सिंह सिद्धू) अस्थिर आदमी है। वह पार्टी में कभी भी लंबे समय तक रहने वालों में से नहीं है और ऐसा ही हुआ। 

 

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आज दिल्ली पहुंचे हैं। ऐसी अटकले हैं कि यहां वे शाम के वक्त केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष  जेपी नड्डा से मुलाकात कर सकते हैं। हालांकि कैप्टन अमरिंदर ने खुद इस बात को नकार दिया है। उन्होंने कहा कि वे निजी दौरे के तहत दिल्ली जा रहे हैं। जहां वह अपने कुछ दोस्तों से मिलेंगे और कपूरथला हाउस को खाली करेंगे. हाल ही में कैप्टन अमरिंदर सिंह के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद बीजेपी नेता और हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को राष्ट्रवादी बताया था. साथ ही साथ बीजेपी में आने का न्योता भी दिया था.

वहीं, पंजाब में आज के घटनाक्रम के तहत नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लेटर लिखकर प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने अपने लेटर में लिखा कि समझौता करने से व्यक्ति का चरित्र खत्म हो जाता है। मैं पंजाब के भविष्य और पंजाब की जनता के कल्याण के एजेंडा से कभी समझौता नहीं कर सकता हूं। उन्होंने आगे लिखा, इसलिए मैं पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देता हूं। मैं कांग्रेस की सेवा करता रहूंगा।


 

संबंधित खबरें