DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस शख्‍स के हाथों और पैरों पर उग आती हैं पेड़ जैसी शाखाएं, कहा- 'मेरे हाथ काट दो'

abul bajandar   28  dubbed  tree man  for massive bark-like warts on his hands and feet  sits at dha

असहनीय दर्द से परेशान और 'ट्री मैन' के नाम से मशहूर बांग्‍लादेशी नागरिक अब्‍दुल बजनदार का कहना है कि उनसे अब उनकी दुर्लभ बीमारी सही नहीं जा रही। अब्‍दुल बजनदार के हाथों और पैरों पर पेड़ की शाखाओं जैसी आकृतियां उभर आती हैं। इस दुर्लभ और अजीब बीमारी के चलते अब्‍दुल के हाथ और पैरों पर बार-बार बड़ी बड़ी शाखाओं जैसी आकृतियां उग आती हैं। इसके कारण उन्हें काफी दर्द होता है। इसलिए अब अब्‍दुल का कहना है कि उनके हाथ काट दिए जाए ताकि उन्हें दर्द से निजात मिल जाए। न्यूज एजेंसी एएफपी के मुताबिक इन आकृतियों को हटाने के लिए वह 2016 से लेकर अब तक 25 बार ऑपरेशन करा चुके हैं। 

इस बीमारी को एपिडर्मोडिस्प्लैजिया वेरुसिफॉर्मिस कहते हैं। यह एक बहुत ही रेयर जेनेटिक स्किन डिसऑर्डर है, जिससे प्रभावित इंसान में पेड़ की जड़ों और शाखाओं की तरह स्किन ग्रोथ होने लगती है। इसी वजह से इस बीमारी को 'ट्री मैन डिजीज' कहते हैं।

डॉक्‍टरों को लग रहा था कि उन्‍होंने इस बेहद दुर्लभ, अजीब और असहनीय दर्द वाली बीमारी को हरा दिया है लेकिन पिछले वर्ष मई में हुई सर्जरी के बाद अब्‍दुल का ढाका स्थित क्लिनिक आना हुआ। जनवरी में एक बच्चे के पिता 28 वर्षीय अब्दुल की हालत और बिगड़ गई जिसके चलते उन्हें अस्तपाल में भर्ती कराना पड़ा। इस बार उनकी स्किन की ग्रोथ कुछ ज्यादा हो गई थी। 

 afp file photo

अब्दुल ने न्यूज एजेंसी एएफपी को कहा, 'मैं और दर्द सहन नहीं कर सकता। मैं रात को सो नहीं पाता हूं। मैंने डॉक्‍टरों से कहा है कि वे मेरे हाथ काट दें ताकि मुझे कुछ राहत मिल सके।' 

अब्‍दुल की मां अमीना बीबी ने उनकी इस गुहार का समर्थन किया। उन्‍होंने कहा, "कम से कम उन्‍हें दर्द से तो निजात मिलेगी। यह नर्क जैसी हालत है।" 

अब्‍दुल बेहतर इलाज के लिए विदेश जाना चाहते हैं लेकिन उनके पास इसके लिए पैसे नहीं हैं। ढाका मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल की मुख्‍य प्‍लास्टिक सर्जन समांथा लाल सेन ने कहा कि सात डॉक्‍टरों का एक बोर्ड बजनदार की हालत पर चर्चा करेगा। उन्‍होंने कहा, "वह अपने विचार रख चुके हैं। लेकिन हम वही करेंगे जो उनके लिए सबसे अच्‍छा होगा।" 

अब्‍दुल की अजीब बीमारी जब सुर्खियों में आई थी तब बांग्‍लादेशी प्रधानमंत्री शेख हसीना ने उनके मुफ्त इलाज का ऐलान किया था। अपने इलाज के पहले चरण के दौरान बजनदार अस्‍पताल के प्राइवेट विंग में करीब दो साल तक रहे थे।

माना जाता है कि पूरी दुनिया में आधे दर्जन से भी कम लोग इस अजीब बीमारी के शिकार हैं। 

इससे पहले इसी अस्‍पताल ने साल 2017 में इस बीमारी से जूझ रही एक बांग्‍लोदशी लड़की का इलाज भी किया था। डॉक्‍टरों ने उसके सफल ऑपरेशन का ऐलान किया था। लेकिन बाद में लड़की के पिता का कहना था कि ऑपरेशन के बाद पहले से भी ज्‍यादा लंबी पेड़ जैसी शाखाएं निकल आईं हैं। इसके फौरन बाद लड़की के परिवार के लोग इलाज बीच में ही छोड़कर वापस अपने गांव चले गए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Can not bear the pain anymore: Bangladesh Tree Man wants hands amputated