DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO: मनाली में नदी का तांडव, कटती गई जमीन, कई किलोमीटर तक बही बस

देखते ही देखते बह गई बस

HIMACHAL PRADESH FLOOD: देवभूमि हिमाचल प्रदेश की खूबसूरत जगहों में से एक मनाली अचानक खराब हुए मौसम के चलते खतरनाक जगह में तब्दील हो गई है। आधे हिमाचल में बाढ़ जैसे हालात बने हुए हैं। भारी बारिश से मनाली ही नहीं बल्कि हिमचल प्रदेश के कई इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति बनी हुई। नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। मनाली से कल वायरल हुए वीडियो में बारिश के चलते उफनती नदीं का रौद्र रूप देखने को मिला।

नदी में बहाव इतना तेज था कि उसके रास्ते में आने वाली सभी चीजें पानी में पलक झपकते समाती चली गई। पानी का बहाव इतना तेज था कि नदी अपना दायरा बढ़ाते चल रही थी, जिसके कई जगहों पर जमीन का कटान भी देखने को मिला।

नदी के रौद्र रूप का अंदाजा ऐसे लगा सकते हैं कि मनाली में किनारे खड़ी बस तिनके की तरह बह गई। कुछ ही मिनट में बस कई किलोमीटर तक बह कर चली गई। बस के नदी में बहने का वीडियो कल रविवार से ही वायरल हो रहा है। सोशल मीडिया पर इस वीडियो को तेजी से शेयर किया जा रहा है।

कुल्लू में बारिश से आफत, नदी में बहे दो ट्रक

दो दिन से लगातार हो बारिश के चलते कुल्लू का जनजीवन भी रुक सा गया है। कुल्लू में तीन जगहों पर बादल फटने की खबर  है। कई इलाके जलमग्न हो गए हैं। कुल्लू, चंबा और मंडी जिले में नदियां उफान पर हैं। जिला प्रशासन के बताया है कि फोजल, धुंधी और लगवैली में बादल फटने से ब्यास का जलस्तर हद से ज्यादा बढ़ा हुआ है। जिसके चलते कुल्लू में दो ट्रक बह गए हैं। मंडी के पंडोह, लारजी, कांगड़ा के सानन और चंबा के चमेरा डैम के गेट खोलने पड़े हैं। बारिश और बाढ़ के चलते प्रशासन ने हाई अलर्ट जारी किया है। कुल्लू, मंडी, चंबा, सिरमौर, कांगड़ा, हमीरपुर, लाहौल, बिलासपुर और किन्नौर के स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी गई है।

हेलीकॉप्टर से बचाए गए 19 लोग

कुल्लू में बारिश और बाढ़ के चलते बिगड़ते हालात को देखते हुए प्रशासन ने एनडीआरएफ को मदद के लिए बुला लिया। मनाली के डोभी में जलस्तर बढ़ने से 19 लोग घरों में फंस गए थे। नदीं का पानी इन सभी के चारों ओर बढ़ता जा रहा था। एनडीआरएफ की टीम व सेना के हेलीकॉप्टर ने काफी देर के प्रयास के बाद 19 लोगों को बचा लिया है। ब्यास नदी में आई बाढ़ के चलते यूनियन के खड़े कई ट्रक पानी में डूब गए।

खाली कराए गए मकान, स्कूली बच्चों को करना पड़ा शिफ्ट

चंबा में रावी नदी में आई बाढ़ को देखते हुए दुर्गेठी, राख, धरवाला, परेल, शीतला ब्रिज, बालू, तड़ोली में मकानों को खाली करवाया गया। सरोल में स्थित जवाहर नवोदय विद्यालय में रह रहे बच्चों को दूसरी जगह शिफ्ट करना पड़ा। नदी के तेज बहाव के चलते तीन पुल बह गए। दो पुलों में दरारें आ गईं।

300 मवेशी बाढ़ में बहे

कांगड़ा में 300 मवेशी बाढ़ में बह गए। भेड़पालक पशुओं को लेकर अपने घरों के लिए जा रहे थे। अचानक मौसम खराब हुआ और नदी का जलस्तर बढ़ता चला गया। भेड़पालक चाहकर भी अपने पशुओं को नहीं बचा पाए। उनकी आंखों के सामने उनके मवेशी नदी में बहते चले गए।

7 नेशनल हाईवे, 300 से ज्यादा सड़कें बंद

कुल्लू-मनाली-रोहतांग-लेह, हिंदुस्तान-तिब्बत मार्ग, शिमला-रोहड़ू, नाहन-शिमला, चंडीगढ़-मनाली नेशनल हाईवे स्वारघाट के समीप और चंबा-पठानकोट एनएच तीन जगहों और पठानकोट-मंडी एनएच पर भूस्खलन के ठप पड़ गया। प्रदेश भर में तकरीबन 300 छोटी-बड़ी सड़कें रुकी पड़ी हैं। चंबा में एचआरटीसी की बस सेवा ठप है। 

रोहतांग और रायसन में 45 लोगों का रेस्क्यू, बंगाल के 9 रिसर्चर लापता

रोहतांग दर्रा बंद होने से फंसे पर्यटकों समेत 23 लोगों को बीआरओ ने शनिवार देर शाम रेस्क्यू कर मढ़ी पहुंचाया है। लाहौल में कई पर्यटक फंसे हैं। पश्चिम बंगाल के नौ ट्रैकर बर्फबारी के बाद से लापता हैं। वहीं रायसन में फंसे प्रशासन के 22 लोगों को बचाव दल ने रेस्क्यू किया। 

दो दशक बाद सितंबर में रोहतांग में चार फीट बर्फबारी

सितंबर में दो दशक के बाद रोहतांग में चार फीट तक ताजा बर्फबारी दर्ज की गई। इसके अलावा केलांग में भी भारी हिमपात हुआ है। इससे कई जगह फलदार पौधे और बिजली के खंभों को नुकसान हुआ है। मणिमहेश की चोटियों और पांगी, तीसा में भी बर्फबारी हुई।

यहां हुई इतनी बर्फबारी

रोहतांग -    120 सेंटीमीटर
कोकसर -    90 सेंटीमीटर 
केलांग -    60 सेंटीमीटर 
बारालाचा-    140 सेंटीमीटर
कुंजुम -        130 सेंटीमीटर

आज भी हाल..  बेहाल

हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में सोमवार को भारी बारिश हुई। मौसम विभाग ने कुल्लू के लिए ''हाई अलर्ट जारी किया है। मूसलाधार बारिश के बाद नदियों में जल स्तर बढ़ने पर कांगड़ा जिले में उफान पर नजर आ रही नाहड़ खाड़ (छोटी नदी) में एक व्यक्ति के बह जाने से उसकी मौत की आशंका जताई जा रही है।

जिला प्रशासन के मुताबिक, जवाली तहसील के लस्कवारा गांव के रहने वाले तिलक राज उस वक्त पानी में बह गए जब सोमवार की सुबह वह नाहड़ खाड़ा को पार कर रहे थे। तिलक का शव बरामद करने की कोशिशें जारी हैं। शिमला के मौसम केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि हिमाचल प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में मध्यम से लेकर भारी बारिश हो रही है।

सुबह 8:30 बजे दर्ज किए गए आंकड़ों के मुताबिक, चंबा जिले के डलहौजी में पिछले 24 घंटों में 170 मिमी, मनाली में 121 मिमी, कांगड़ा में 120.08 मिमी, पालमपुर में 108 मिमी, धर्मशाला में 62.6 मिमी और उना में 62 मिमी बारिश हुई है। राज्य की राजधानी शिमला में 23.1 मिमी बारिश हुई।

कुल्लू जिले के लिए ''हाई अलर्ट जारी करते हुए उपायुक्त युनूस ने लोगों को चेतावनी दी कि बाढ़ जैसी स्थिति के मद्देनजर वे नदियों और नालों के पास न जाएं। मौसम केंद्र के मुताबिक, ऊंचाई वाले इलाकों में बड़े पैमाने पर बारिश और बर्फबारी के कारण तापमान में कमी आई है। लाहौल और स्पीति जिले के केलोंग में तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस से नीचे चला गया है। केंद्र के मुताबिक, उना में तापमान सबसे अधिक (27.2 डिग्री सेल्सियस) दर्ज किया गया। 

मौसम केंद्र ने पूर्वानुमान जाहिर किया है कि 25 सितंबर को राज्य के ऊंचाई वाले इलाकों में मध्यम एवं कम ऊंचाई वाले पहाड़ी इलाकों और कुछ एक जगहों पर हल्की से मध्यम स्तर की बारिश होगी। इसके बाद मौसम लगभग शुष्क रहेगा।

सिक्किमःPM बोले- 67 साल में बने 65 एयरपोर्ट, हमने 4 साल में 35 बनाए

मॉब लिंचिंगः गुजरात-तमिलनाडु में चोरों पर टूटा भीड़ का कहर, 2 की हत्या

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bus gets washed away in flooded beas river in manali himachal pradesh manali floods latest news