DA Image
28 अक्तूबर, 2020|8:57|IST

अगली स्टोरी

लॉकडाउन के बाद बढ़ गया बोझ, रोजाना 48 मिनट ज्यादा काम कर रहे लोग

                                                                                         48

लॉकडाउन के कारण आई आर्थिक चिंताओं ने लोगों पर काम का बोझ बढ़ा दिया। हार्वर्ड और एनवाईयू संस्थानों के विशेषज्ञों ने अपने अध्ययन में पाया कि लोग हर दिन आठ प्रतिशत अधिक समय तक काम कर रहे हैं। काम के घंटों से जुड़ा असर दफ्तर में काम करने वाले कर्मचारियों और घर से काम कर रहे कर्मचारियों पर लगभग बराबर पड़ रहा है। यह रिपोर्ट गैर सरकारी अमेरिकी संगठन 'नेशनल ब्यूरो ऑफ इकोनॉमिक रिसर्च' ने जारी की है। 

हर दिन 48 मिनट ज्यादा काम 
रिपोर्ट के अनुसार, दुनियाभर में तालाबंदी के दौरान और उसके बाद आए आर्थिक तनाव के बीच काम कर रहे लोगों को प्रतिदिन औसतन 48.5 मिनट अधिक काम करना पड़ रहा है। विशेषज्ञों ने सभी देशों की सरकारों को सलाह दी है कि श्रम नियमों का नियोक्ताओं से सही तरीके से पालन कराया जाए। 

बैठकों के समय में कमी आयी
रिपोर्ट में बताया गया है कि कार्यक्षेत्रों में होने वाली बैठक व ऑनलाइन बैठकों में हर दिन लगने वाले समय में 12 प्रतिशत कमी आयी है। हालांकि ऑनलाइन बैठकों की दर 7 प्रतिशत बढ़ गई है।   
 
ईमेल से संवाद बढ़ा     
महामारीकाल में सामने बैठकर बात करने की बजाय कर्मचारी व नियोक्ता एक-दूसरे से ईमेल के जरिए ज्यादा संवाद कर रहे हैं। हर घंटे ईमेल भेजने की दर 8% बढ़ गई है। साथ ही कर्मचारी 6 प्रतिशत अधिक मेल प्राप्त कर रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Burden increased after lockdown people working 48 minutes more per day