ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देश'इतिहास पढ़ने की जरूरत', संसद पर आतंकी हमले को लेकर दानिश अली और हिमंत सरमा आमने-सामने

'इतिहास पढ़ने की जरूरत', संसद पर आतंकी हमले को लेकर दानिश अली और हिमंत सरमा आमने-सामने

हिमंत के बयान पर पलटवार करते हुए बसपा नेता ने कहा कि संसद पर जब आतंकी हमला तब भाजपा की ही सरकार थी। अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री हुआ करते थे, जबकि लालकृष्ण आडवाणी गृह मंत्री थे।

'इतिहास पढ़ने की जरूरत', संसद पर आतंकी हमले को लेकर दानिश अली और हिमंत सरमा आमने-सामने
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 12 Nov 2023 06:25 PM
ऐप पर पढ़ें

बहुजन समाज पार्टी के सांसद दानिश अली ने संसद पर आतंकवादी हमले को लेकर असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा पर पलटवार किया है। बीएसपी लीडर ने कहा कि उनकी (सरमा) याददाश्त कमजोर है या फिर वह जानबूझकर ऐसी बातें कह रहे हैं। दरअसल, मध्य प्रदेश के नर्मदापुरम में हिमंत ने शनिवार को कहा था कि 2009-10 तक देश में हर दिन धमाके होते थे। मुंबई और संसद पर हमले होते थे। क्या उस दौरान सेना नहीं थी? उन्होंने कहा, 'अगर कांग्रेस ने पाकिस्तान को सबक सिखाया होता, तो हजारों लोगों की जान बचाई जा सकती थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सत्ता में आए और इसके बाद से हमने पाकिस्तान को 2 बार निशाना बनाया।'

सीएम हिमंत के बयान पर पलटवार करते हुए बसपा नेता ने कहा कि संसद पर जब आतंकवादी हमला तब भाजपा की ही सरकार थी। अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री हुआ करते थे, जबकि लालकृष्ण आडवाणी गृह मंत्री थे। दानिश अली ने हिमंत की ओर इशारा करते हुए कहा कि उन्हें इतिहास और भूगोल के बारे में कोई जानकारी नहीं है। वहीं, हिमंत ने तेलंगाना में कहा कि कांग्रेस मोहम्मद अली जिन्ना की मुस्लिम लीग के सपने को पूरा कर रही है। उन्होंने नाम लिए बगैर कांग्रेस नेता राहुल गांधी की ओर इशारा करते हुए आरोप लगाया कि जिन लोगों ने गांधी उपनाम लगा रखा है, उन्होंने जिन्ना की नीतियों को पुनर्जीवित किया है।

जिन्ना के सपने को पूरा कर रही कांग्रेस: हिमंत सरमा
दरअसल, कांग्रेस के अल्पसंख्यक घोषणापत्र में कहा गया कि अगर पार्टी तेलंगाना में सत्ता में आती है, तो वह नौकरियों, शिक्षा और सरकारी योजनाओं में अल्पसंख्यकों सहित सभी पिछड़े वर्गों के लिए उचित आरक्षण सुनिश्चित करेगी। सरमा ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर लिखा, 'अपने लंबे राजनीतिक करियर में मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि कांग्रेस एक धर्म के वोट बैंक पर कब्जा करने की कोशिश में इतना नीचे गिर जाएगी। धर्म विशिष्ट घोषणापत्र लाकर कांग्रेस मोहम्मद अली जिन्ना की मुस्लिम लीग के सपने को पूरा कर रही है।' उन्होंने कहा कि सभी भारतीयों को कांग्रेस से सवाल करना चाहिए कि क्या जितनी आबादी उतना हक का नारा मुसलमानों के लिए अवैध आरक्षण वापस लाने के वास्ते एक ढकोसला है?
(एजेंसी इनपुट के साथ)