ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशबीएसएफ के खास रंगरूट ने किया गृहमंत्री अमित शाह का स्वागत, डॉग सिमी ने भेंट किया गुलदस्ता

बीएसएफ के खास रंगरूट ने किया गृहमंत्री अमित शाह का स्वागत, डॉग सिमी ने भेंट किया गुलदस्ता

बीएसएफ के स्थापना दिवस में शामिल होने पहुंचे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को ऐसा तोहफा मिला है, जिसे वह कभी नहीं भूल पाएंगे। जीहां, रविवार को जैसलमेर में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान बीएसएफ के...

बीएसएफ के खास रंगरूट ने किया गृहमंत्री अमित शाह का स्वागत, डॉग सिमी ने भेंट किया गुलदस्ता
Deepakलाइव हिंदुस्तान टीम,जैसलमेरMon, 06 Dec 2021 05:10 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

बीएसएफ के स्थापना दिवस में शामिल होने पहुंचे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को ऐसा तोहफा मिला है, जिसे वह कभी नहीं भूल पाएंगे। जीहां, रविवार को जैसलमेर में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान बीएसएफ के प्रशिक्षित डॉग सिमी ने फूलों का गुलदस्ता देकर उनका स्वागत किया। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

विशेष डॉग शो का हुआ था आयोजन
गौरतलब है कि बीएसएफ का 57वां स्थापना दिवस रविवार को जैसलमेर में आयोजित हुआ। यह पहली बार था जब यह कार्यक्रम दिल्ली से बाहर कहीं मनाया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन जैसलमेर के शहीद पूनमसिंह स्टेडियम किया गया था। इसमें बीएसफ की महिला जवानों ने कई साहसिक कार्यक्रम पेश किए। साथ ही एक खास विशेष डॉग शो का भी आयोजन हुआ। इस आयोजन को देखने पहुंचे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह का स्वागत राष्ट्रीय श्वान प्रशिक्षण केंद्र से ट्रेनिंग ले चुके डॉग सिमी ने किया। 

झुककर दी सलामी
कार्यक्रम शुरू होने से पहले मुख्य अतिथि के स्वागत की रस्म निभाई जा रही थी। इसके लिए डॉग सिमी के साथ दो जवान मार्च करते हुए आते हैं। इसके बाद जवान सिमी के मुंह में फूलों का गुलदस्ता पकड़ा देते हैं। इसके बाद यह डॉग मुंह में गुलदस्ता दबाए उस तरफ जाता है जहां केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और अन्य सैन्य अधिकारी बैठे हैं। अमित शाह के सामने पहुंचकर डॉग रुक जाता है। इसके बाद गृहमंत्री उसके द्वारा लाए गए फूलों के गुलदस्ते को ग्रहण कर लेते हैं। इसके बाद सिमी अपने अगले पैरों पर इस तरह से झुक जाता है मानों सलामी दे रहा है। वह कुछ पल इसी तरह से रहता है। इसके बाद अमित शाह के बगल में बैठे वरिष्ठ सैन्य अधिकारी डॉग के माथे पर हाथ फेरते हैं तब जाकर वह वापस जाता है।

epaper