DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संयुक्त परिवार में देवर से गुजारा भत्ता लेने का हकः सुप्रीम कोर्ट

अयोध्या विवाद में मध्यस्थ को सौंपने पर सुप्रीम कोर्ट आज सुनाएगा फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने एक फैसले में कहा है कि घरेलू हिंसा कानून के तहत संयुक्त परिवार में देवर को भी विधवा महिला को गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया जा सकता है।

जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने फैसले में कहा कि उस वयस्क पुरुष को कोई छूट नहीं है यदि वह शिकायतकर्ता महिला के साथ संयुक्त परिवार में रह रहा है। शीर्ष अदालत ने कहा कि कानून की धारा 2(क्यू) कहती है कि इसमें प्रतिवादी का मतलब शिकायतकर्ता के साथ संयुक्त परिवार में रहने वाला कोई भी वयस्क पुरुष होगा। पीड़ित पत्नी या विवाहित महिला पति के रिश्तेदारों या पुरुष सहयोगी के खिलाफ शिकायत दर्ज करा सकती है। 

पीठ ने कहा कि धारा 2 (एफ) घरेलू संबंधों को परिभाषित करती है। इसके अनुसार ऐसा संबंध जहां दो व्यक्ति साझे घर में किसी समय रहे हों या रह चुके हों और जो रिश्ता विवाह के संबंध में हों या विवाह जैसे रिश्ते में हों, गोद लिए हुए हों या संयुक्त परिवार के सदस्य हों।

महिला को संरक्षण दिया जाना चाहिए

कोर्ट ने कहा कि ये सभी प्रावधान सपष्ट रूप से कहते है की महिला को संरक्षण दिया जाना चाहिए। ये कहते हुए कोर्ट ने निचली अदालत द्वारा देवर को भाई की पत्नी और बच्चे को गुजारा भत्ता देने के आदेश पर मुहर लगा दी। कोर्ट ने देवर के तर्क को खारिज कर दिया कि कानून के अनुसार वह गुजारा भत्ता देने के लिए अधिकृत नहीं है। कोर्ट ने कहा, देवर 4000 रुपये भाभी को और 2000 रुपये भतीजी को गुजारा भत्ते के रूप में देगा। साथ ही कहा, रुका हुआ भत्ता देवर को चार माह में चुकाना होगा। 

घरेलू हिंसा कानून के तहत दर्ज कराया था मुकदमा

महिला और उसका मृत पति पानीपत में संयुक्त हिन्दू परिवार में एक साथ रह रहा था। मृत व्यक्ति और उसका भाई संयुक्त रूप से किराना की दुकान चला रहे थे। इस दुकान से दोनों भाई तीस-तीस हजार रुपये प्रतिमाह कमाते थे। पति की मृत्यु के बाद महिला ने घरेर्लू ंहसा कानून के तहत शिकायत दर्ज कराई कि उसे और उसकी बच्ची को घर में रहने नहीं दिया जा रहा है। इसके बाद परिवार कोर्ट ने गुजारा भत्ता तय कर दिया। परिवार कोर्ट के आदेश को हरियाणा हाईकोर्ट ने भी सही माना। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने भी इसपर मुहर लगा दी। 

क्यों किया गया था बालाकोट हमला, जनरल रावत ने बताई वजह

चुनाव में प्रचंड बहुमत के बाद नरेंद्र मोदी ने लिया मां से आशीर्वाद

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Brother In Law Can Be Ordered To Pay Maintenance To Widow Under Domestic Violence Act Says Supreme Court