ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशआजीवन कारावास की सजा काट रहा कैदी अब देगा एंट्रेंस परीक्षा , बॅाम्बे हाईकोर्ट ने दी इजाजत

आजीवन कारावास की सजा काट रहा कैदी अब देगा एंट्रेंस परीक्षा , बॅाम्बे हाईकोर्ट ने दी इजाजत

हत्या के जुर्म में आजीवन कारावास की सजा काट रहे एक कैदी को बॅाम्बे हाईकोर्ट ने अस्थायी जमानत दे दी है। काेर्ट ने यह फैसला इसलिए किया है ताकि कैदी अपनी लॅा की प्रवेश परीक्षा दे सके।

आजीवन कारावास की सजा काट रहा कैदी अब देगा एंट्रेंस परीक्षा , बॅाम्बे हाईकोर्ट ने दी इजाजत
Anmolलाइव हिंदुस्तान,मुंबईMon, 27 May 2024 04:15 PM
ऐप पर पढ़ें

बॅाम्बे हाईकोर्ट ने हाल ही में आजीवन कारावास की सजा काट रहे एक कैदी को अस्थायी जमानत दे दी है। यह मोहलत उसे इसलिए दी गई है ताकि वह 30 मई को होने वाली अपनी लॅा की प्रवेश परीक्षा में बैठ सके। जस्टिस एन आर बोरकर और जस्टिस सोमशेखर सुंदरेशन की पीठ ने यह फैसला लिया है।

 

सुनवाई के दौरान उन्होंने कहा है कि दोषी लगभग 9 सालों से जेल में बंद है। इस दौरान उसे पहले भी कई बार जमानत मिल चुकी है, लेकिन उसने कभी भी मिली हुई आजादी का दुरूपयोग नहीं किया है। कोर्ट ने अपने दिए गए आदेश में भी इस बात का उल्लेख किया है। कैदी ने अपनी प्रवेश परीक्षा में बैठने के लिए एक हफ्ते की अस्थायी जमामत का आवेदन किया था। कोर्ट ने उसके पिछले बर्ताव को देखते हुए और साथ ही पंद्रह हजार रूपए की जमानत राशि पर उसे रिहा कर दिया है। 

 

जस्टिस बोरकर और सोमशेखर ने आवेदक की सभी दलीलें सुनने के बाद अपने आदेश में कहा कि "आवेदक लगभग नौ सालों से जेल में है l यह भी मालूम पड़ता है कि मुकदमे के दौरान वह कुछ समय के लिए जमानत पर भी रहा है। लेकिन उसने उस दौरान कभी भी अपनी आजादी का फायदा नहीं उठाया है।" 
न्यायालय ने इस फैसले में शिक्षा के महत्व पर भी जोर डाला है। उन्होंने कहा कि यह परीक्षा उसके बेहतर भविष्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण अवसर है। कोर्ट ने अपना अंतिम फैसला सुनाते हुए कहा कि " सभी बातों को ध्यान में रखते हुए , हम आवेदक को एक सप्ताह की अवधि के लिए अस्थाई जमानत पर रिहा करने का समर्थन करते हैं।" 


बता दें कि साल 2021 के दिसंबर महीने में आवेदक को आईपीसी की धारा 302 ( हत्या के अपराध) के तहत आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। इस केस में वह अब तक लगभग नौ साल जेल में बिता चुका है।आवेदक की ओर से केस लड़ रहे एडवोकेट इरफान शब्बीर उनवाला ने उसकी कम उम्र और अच्छे वार्ताव का हवाला देते हुए कोर्ट के सामने अपील की थी। उन्होंने कैदी का प्रवेश पत्र भी आवेदन के साथ कोर्ट में पेश किया था।