ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशराहुल गांधी बोले- मेरे पास घर नहीं; BJP ने पीएम आवास योजना के तहत कर दिया अप्लाई

राहुल गांधी बोले- मेरे पास घर नहीं; BJP ने पीएम आवास योजना के तहत कर दिया अप्लाई

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बीते रविवार को कहा था कि उनके पास कभी अपना घर नहीं रहा और उनके इसी अहसास ने उन्हें अपनी 'भारत जोड़ो यात्रा' में बदलाव करने और लोगों से संपर्क साधने में मदद की।

राहुल गांधी बोले- मेरे पास घर नहीं; BJP ने पीएम आवास योजना के तहत कर दिया अप्लाई
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,तिरुवनंतपुरमWed, 01 Mar 2023 11:16 PM
ऐप पर पढ़ें

कांग्रेस नेता और वायनाड से सांसद राहुल गांधी के 'मेरे पास घर नहीं' वाले बयान पर भाजपा ने तंज कसा है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, वायनाड में बीजेपी लीडरशिप की ओर से कलपेट्टा के नगरपालिका सचिव को एक आवेदन भेजा गया है, जिसमें राहुल के लिए घर की मांग की गई है। इस एप्लिकेशन में बीजेपी ने राहुल गांधी को प्रधानमंत्री आवास योजना में शामिल करने और उन्हें मकान व जमीन मुहैया कराने की अपील की है।

भाजपा के वायनाड जिला अध्यक्ष केपी मधु ने बुधवार को राहुल गांधी पर जमकर तंज कसा। उन्होंने कहा कि वे कांग्रेस नेता के लिए कलपेट्टा में एक घर और जमीन लेने की कोशिश कर रहे हैं, जो कि जिले के सेंटर एरिया में है। मधु ने मजे लेते हुए कहा कि वायनाड में घर होना राहुल गांधी के लिए आदर्श स्थिति होगी, क्योंकि वह अपनी छुट्टियां बिताने के लिए यहां आ रहे हैं।

घर को लेकर क्या बोले थे राहुल गांधी
दरअसल, राहुल गांधी ने बीते रविवार को कहा था कि उनके पास कभी अपना घर नहीं रहा और उनके इसी अहसास ने उन्हें अपनी 'भारत जोड़ो यात्रा' में बदलाव करने और लोगों से संपर्क साधने में मदद की। छत्तीसगढ़ के नवा रायपुर में कांग्रेस के महाधिवेशन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि वह चाहते थे कि यात्रा में शामिल होने वाला प्रत्येक व्यक्ति यह महसूस करे कि वे घर आ रहे हैं।

राहुल ने 1977 में हुई उस घटना को याद किया, जब उनका परिवार अपना सरकारी आवास खाली करने की तैयारी कर रहा था। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा, 'घर में एक असहज माहौल था। मैं मां के पास गया और उनसे पूछा कि क्या हुआ है। मां ने मुझसे कहा कि हम यह घर छोड़ रहे हैं। उस वक्त तक मुझे लगता था कि यह हमारा घर है। इसलिए, मैंने अपनी मां से पूछा कि हम अपना घर क्यों छोड़ रहे हैं। तब, मेरी मां ने मुझे पहली बार बताया कि यह हमारा घर नहीं है, बल्कि सरकारी आवास है और अब हमें इसे छोड़ना होगा।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें