ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देश'राम मंदिर बनने से 1000 साल के लिए राम राज्य की स्थापना', बीजेपी का प्रस्ताव पारित

'राम मंदिर बनने से 1000 साल के लिए राम राज्य की स्थापना', बीजेपी का प्रस्ताव पारित

राष्ट्रीय अधिवेशन में पास प्रस्ताव में कहा गया, 'अयोध्या की प्राचीन पवित्र नगरी में श्रीराम की जन्मभूमि पर भव्य और दिव्य मंदिर का निर्माण देश के लिए ऐतिहासिक और गौरवशाली उपलब्धि है।'

'राम मंदिर बनने से 1000 साल के लिए राम राज्य की स्थापना', बीजेपी का प्रस्ताव पारित
Niteesh Kumarएजेंसी,नई दिल्लीSun, 18 Feb 2024 04:32 PM
ऐप पर पढ़ें

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में रविवार को अयोध्या में राम मंदिर पर प्रस्ताव पारित किया गया। इसमें कहा गया कि यह अगले 1,000 वर्षों के लिए भारत में 'राम राज्य' की स्थापना का संकेत है। प्रस्ताव में कहा गया, 'अयोध्या की प्राचीन पवित्र नगरी में श्रीराम की जन्मभूमि पर भव्य और दिव्य मंदिर का निर्माण देश के लिए ऐतिहासिक और गौरवशाली उपलब्धि है।' इसमें कहा गया कि यह अधिवेशन प्रधानमंत्री के नेतृत्व को दिल से बधाई देता है। प्रस्ताव में कहा गया कि भगवान श्रीराम, सीता और रामायण भारतीय सभ्यता व संस्कृति के हर पहलू में विद्यमान हैं।

प्रस्ताव में कहा गया, 'हमारे लोकतांत्रिक मूल्यों और सभी के लिए न्याय के लिए समर्पित हमारा संविधान रामराज्य के आदर्शों से प्रेरित है।' इसमें उल्लेख किया गया है कि भारत के संविधान की मूल प्रति में भी मौलिक अधिकारों के खंड पर जीत के बाद अयोध्या लौटने पर भगवान श्रीराम, माता सीता और लक्ष्मण जी की तस्वीर है। यह इस बात का प्रमाण है कि भगवान श्रीराम मौलिक अधिकारों के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं। प्रस्ताव में कहा गया कि रामराज्य का विचार महात्मा गांधी के हृदय में भी था, जो कहा करते थे कि यही सच्चे लोकतंत्र का विचार है। 

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह के लिए मोदी की सराहना
राष्ट्रीय अधिवेशन में अयोध्या के राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना की गई। यह कहा गया कि प्रत्येक भारतीय का सपना साकार हुआ और रामलला घर लौट आए। भाजपा ने पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में पारित प्रस्ताव में कहा, 'यह राष्ट्रीय सम्मेलन भूमि पूजन के बाद 4 साल से भी कम समय में रामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी को हार्दिक बधाई देता है।' प्रधानमंत्री मोदी की मौजूदगी में प्रस्ताव पारित हुए। इसमें कहा गया कि पार्टी अपनी स्थापना के बाद से ही भगवान राम के जन्मस्थान पर एक भव्य मंदिर के निर्माण के लिए प्रतिबद्ध रही है। हममें से किसी ने नहीं सोचा था कि ऐसा समय आएगा जब अयोध्या में एक भव्य मंदिर बनेगा और रामलला घर लौटेंगे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें