DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमित शाह की कांग्रेस को चुनौती, कहा- संसद में राफेल पर जब तक चाहे चर्चा करें

BJP President Amit Shah

राफेल सौदे (Rafale Deal) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) ने कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है और कहा कि आज सत्य की जीत हुई है। उन्होंने कहा कि आज सिद्ध हो गया है चोर-चोर वही चिल्लाते है जिनको चौकीदार का भय होता है

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस पार्टी एक काल्पनिक जगत बनाकर बैठी हुई है जिसमें सच और न्याय की कोई जगह नहीं है। सवाल भी कांग्रेस पार्टी खड़े करती है, वकील भी वही हैं और न्यायाधीश भी वहीं है। आज कांग्रेस पार्टी देश के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर सवाल खड़ा कर रही है। राफेल मुद्दे पर संसद में चर्चा के लिए हम तैयार है और मैं कांग्रेस पार्टी को चुनौती देता हूं की वो मुद्दे के आधार पर सदन में जितने समय तक चर्चा करना चाहते हैं करें।

कोरे झूठ के आधार पर देश की जनता को गुमराह

उन्होंने कहा कि देश की आज़ादी के बाद से एक कोरे झूठ के आधार पर देश की जनता को गुमराह करने का इससे बड़ा प्रयास कभी नहीं हुआ और ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि यह प्रयास देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के अध्यक्ष के द्वारा किया गया। उन्होंने कहा कि राफेल खरीद के संबंध में देश की जनता को गुमराह करने और सेना के बीच में सन्देश पैदा करने के लिए राहुल गांधी को देश की जनता से मांफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी देश की जनता को जवाब दें कि वो किस आधार पर देश की जनता को गुमराह कर रहें थे?

झूठ के पैर नहीं होते

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने अपने और अपनी पार्टी के तत्काल फायदे के लिए झूठ का सहारा लेकर चलने की एक नई राजनीति की शुरुआत की और सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने आज सिद्ध कर दिया है कि झूठ के पैर नहीं होते और अंत में जीत सत्य की ही होती है।

राहुल से अमित शाह के सवाल :
1. क्या राहुल ने राजनहति फायदे के लिए देश से झूठ बोला?  
2. राहुल अपनी जानकारी का स्त्रोत बताए?  
3. क्या कमीशन के लिए कांग्रेस ने डील रोकी थी ?    
4. कोर्ट में याचिकाकर्ता क्यों नहीं बने राहुल गांधी?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:BJP President Amit Shah welcome the judgement of the Supreme Court in Rafale Deal