DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विशेषज्ञ की राय: राष्ट्रवाद के मुद्दे ने भाजपा को बढ़त दिलाई

एग्जिट पोल के आंकड़े अगर 23 मई को सही साबित होते हैं, तो इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकेगा कि तमाम आलोचनाओं के बावजूद राष्ट्रवाद का मुद्दा भाजपा को इस चुनाव में बढ़त दिला गया। पुलवामा हमले के बाद भारत की सख्त प्रतिक्रिया ने राष्ट्रवाद को चिंगारी दी और भावनात्मक लहर ने उन आर्थिक मुद्दों को मौन कर दिया जिन्हें मोदी सरकार की कमजोरी के तौर पर देखा जा रहा था। 

अगर यही परिणाम 23 मई को भी सामने आते हैं कि तो एक चीज स्पष्ट है कि ये वोट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए हैं। लोग उनके नेतृत्व में भरोसा जता रहे हैं। यह भरोसा गवर्नेंस से ज्यादा राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर है। पिछले साल हुए विधानसभा चुनावों में भी लोग ये कह रहे थे कि राज्य में हम कांग्रेस को वोट दे रहे हैं, लेकिन केंद्र के लिए उनकी पसंद मोदी हैं। एक वक्त आया था जब मोदी सरकार आर्थिक विफलताओं को लेकर घिरने लगी थी, लेकिन पुलवामा हमले पर भारत की कठोर प्रतिक्रिया ने माहौल बदल दिया। इसके बाद से अब तक देश में राष्ट्रवाद का भावनात्मक मुद्दा हावी है। 

कांग्रेस पूरे चुनाव में दुविधा में रही। वह यह नहीं तय कर पाई कि उसे मोदी को रोकना है या पार्टी को उभारना है। इसकी वजह से राष्ट्रव्यापी गठबंधन नहीं हो सका। कुछ राज्यों में गठबंधन हुआ भी, लेकिन वह इतना प्रभावी नहीं रहा। कांग्रेस की ओर से सबसे जोर-शोर से उठाया गया राफेल का मुद्दा भी असर डाल नहीं पा रहा।.
(स्कन्द विवेक से बातचीत पर आधारित)  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:BJP in profit in surveys due to the issue of nationalism according the expert