ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशभोजपुरी स्टार, केंद्रीय मंत्रियों और विधायकों को टिकट, बंगाल में BJP ने किन चेहरों पर जताया भरोसा

भोजपुरी स्टार, केंद्रीय मंत्रियों और विधायकों को टिकट, बंगाल में BJP ने किन चेहरों पर जताया भरोसा

कभी तृणमूल कांग्रेस के युवा नेता रहे 38 वर्षीय निसिथ प्रमाणिक मार्च 2019 में भाजपा में शामिल हुए थे। उन्होंने आम चुनाव में टीएमसी के दिग्गज नेता परेश अधिकारी को 54,000 से अधिक वोटों से हराया था।

भोजपुरी स्टार, केंद्रीय मंत्रियों और विधायकों को टिकट, बंगाल में BJP ने किन चेहरों पर जताया भरोसा
Niteesh Kumarएजेंसी,कोलकाताSat, 02 Mar 2024 11:12 PM
ऐप पर पढ़ें

भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए पश्चिम बंगाल से मौजूदा सांसदों, स्टेट यूनिट चीफ सुकांत मजूमदार और केंद्रीय मंत्रियों को टिकट दिया है। पश्चिम बंगाल में 42 लोकसभा सीट हैं, जिनमें से 20 सीट पर भाजपा ने शनिवार को उम्मीदवारों की घोषणा की। बीजेपी ने कूचबिहार लोकसभा सीट से केंद्रीय मंत्री निसिथ प्रमाणिक, अलीपुरद्वार से मनोज तिग्गा, बलूरघाट से सुकांत मजूमदार, बोंगांव (सुरक्षित) से शांतनु ठाकुर, कांति से सोमेंदू अधिकारी को टिकट दिया है।

एक समय उत्तरी बंगाल के कूचबिहार जिले से तृणमूल कांग्रेस के युवा नेता रहे 38 वर्षीय निसिथ प्रमाणिक मार्च 2019 में भाजपा में शामिल हुए थे। उन्होंने आम चुनाव में टीएमसी के दिग्गज नेता परेश अधिकारी को 54,000 से अधिक वोटों से हराया था। जुलाई 2021 में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के दूसरे कार्यकाल के दौरान हुए मंत्रिमंडलीय फेरबदल में उन्हें दो मंत्रालयों (गृह मंत्रालय और खेल एवं युवा मामलों) का राज्यमंत्री बनाया गया। वहीं, आसनसोल सीट से भोजपुर गायक व एक्टर पवन सिंह को उम्मीदवार बनाया गया है। अभिनेता से नेता बने शत्रुघ्न सिन्हा आसनसोल से फिलहाल टीएमसी के सांसद हैं।

विधानसभा में पार्टी के मुख्य सचेतक हैं मनोज तिग्गा
साल 2016 और 2021 के पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में अलीपुरद्वार जिले के मदारीहाट (सुरक्षित) निर्वाचन क्षेत्र से जीत हासिल करने वाले भाजपा विधायक मनोज तिग्गा फिलहाल विधानसभा में पार्टी के मुख्य सचेतक हैं। भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष और पहली बार के सांसद सुकांत मजूमदार ने 2019 में बलूरघाट लोकसभा सीट पर जीत हासिल की थी। उन्होंने कुल 45 प्रतिशत वोट प्राप्त कर लगभग 33,000 मतों के अंतर से जीत हासिल की थी। 

मतुआ समुदाय के प्रमुख नेता शांतनु ठाकुर ने 2019 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले राजनीति में प्रवेश किया था। उन्होंने बोनगांव (एससी) लोकसभा सीट पर 1,11,594 मतों के अंतर से जीत हासिल की थी, जहां मतुआ आबादी काफी अधिक है। तमलुक लोकसभा क्षेत्र से दो बार के टीएमसी सांसद सोमेंदु अधिकारी ने वर्ष 2021 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले अपने भाई शुभेंदु अधिकारी के भाजपा में शामिल होने के बाद से खुद को पार्टी से दूर कर लिया है। उनके पिता शिशिर अधिकारी कांति लोकसभा सीट से तीन बार टीएमसी सांसद रहे थे। हालांकि, शिशिर ने भी शुभेंदु के पाला बदलने के बाद पार्टी से दूरी बना ली है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें