DA Image
3 अक्तूबर, 2020|7:20|IST

अगली स्टोरी

वास्तविक मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए BJP उठा रही अनुच्छेद 370 का मुद्दा: शरद पवार

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख 78 वर्षीय शरद पवार 21 अक्टूबर को होने वाले महाराष्ट्र चुनाव के पहले मुख्य विपक्षी चेहरे के रूप में उभरे हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय मुद्दों पर ध्यान देने के बीच विपक्षी गठबंधन के सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में उन्होंने सुनेत्रा चौधरी से बात की। पढ़ें, इंटरव्यू का संपादित अंश:
 
जो लोग इसे एकतरफा लड़ाई कहते हैं, उनके प्रति आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी? 

मैं नहीं समझ पा रहा हूं कि यदि यह एक तरफा लड़ाई है तो फिर क्यों प्रधानमंत्री मोदी यहां नौ रैलियों को संबोधित कर रहे हैं। क्यों गृह मंत्री अमित शाह 20 चुनावी रैलियों को संबोधित कर रहे हैं? क्यों वे यहां इतना समय बिता रहे हैं? राज्य के हर कोने में बीजेपी का नेतृत्व, उनके सांसद यात्रा कर रहे हैं। यह दर्शाता है कि स्थिति उनके लिए अनुकूल नहीं है। लोकसभा चुनावों (2019) में हमने जो देखा और जो हम विधानसभा चुनावों में देख रहे हैं, उसमें बहुत अंतर है। राजस्थान या मध्य प्रदेश की तरह, लोकसभा में भी बीजेपी ने राज्यों में जीत हासिल की लेकिन विधानसभा चुनावों में परिणाम अलग थे। इसी तरह की स्थिति महाराष्ट्र में है, और जिन्हें जमीनी हकीकत के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है वे कह रहे हैं यह एकतरफा लड़ाई होगी।

राजस्थान और मध्य प्रदेश में चुनावों में कांग्रेस को बड़ी मुश्किल से बहुमत की संख्या में सीट मिली है।

वहां भाजपा की सरकारें थीं। जनता ने उन भाजपा सरकारों को बाहर कर दिया। बहुमत- बहुमत होता है।

क्या आपको लगता है कि आपकी सहयोगी पार्टी एक कमजोर पार्टी है? कांग्रेस ने बहुत सारी आंतरिक लड़ाई का सामना किया है। संजय निरुपम और मिलिंद देवड़ा जैसे लोग एक दूसरे पर हमला करते रहे हैं।

मुझे ऐसा नहीं लगता है। महाराष्ट्र में यदि आप किसी भी गाँव में जाते हैं, तो कांग्रेस के लिए प्रतिबद्ध जनसंख्या का एक निश्चित प्रतिशत है। वे यह नहीं देखते कि उम्मीदवार कौन है, वे सिर्फ कांग्रेस को वोट देते हैं। उस प्रकार का आधार है। आपने जिन नामों का उल्लेख किया है, वे राज्य में वास्तविक कांग्रेस नेता नहीं हैं। वे टीम में हैं लेकिन वे जमीनी नेता नहीं हैं।

भाजपा राष्ट्रवाद का मुद्दा और जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने जैसे मुद्दे उठा रही है। इसका क्या प्रभाव पड़ेगा?

आपको चुनाव में मुख्य मुद्दों को देखना होगा। कृषि समुदायों के लिए संकट है ... 16,000 किसानों ने आत्महत्या की है। अगर कुछ परिस्थितियां हैं, जहां उन्हें अच्छे दाम मिल रहे हैं, तो सरकार तुरंत हस्तक्षेप करती है। प्याज किसानों का ही मामला लें। जब उन्हें अच्छे दाम मिलने लगे, तो सरकार ने प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया ... ये सभी नीतियां कृषि को प्रभावित कर रही हैं। खाद और बीज की कीमतों पर कोई नियंत्रण नहीं है।

दूसरे, हम सभी ने कई वर्षों तक महाराष्ट्र को एक औद्योगिक राज्य के रूप में विकसित करने के लिए एक सचेत निर्णय लिया। आज भाजपा सरकार ने जो नीतियां पेश की हैं, उनमें से 50% से अधिक औद्योगिक इकाइयां बंद हैं... बीमार उद्योग राज्य में एक प्रमुख मुद्दा है।

तीसरा, युवा पीढ़ी की बेरोजगारी। पुणे में, आपको 30-40 इंजीनियरिंग कॉलेज मिलेंगे, लेकिन स्नातक करने वाले बहुत से लोगों को नौकरी नहीं मिल रही है।

ये सभी मुद्दे चुनावी मुद्दे हैं... इनसे ध्यान हटाने के लिए, बीजेपी बार-बार अनुच्छेद 370 को ला रही है। प्रधानमंत्री कह रहे हैं, 'पवार को घोषणा पत्र में इसके बारे में अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए।' सबसे पहली बात की हमारा घोषणापत्र जारी किया जा चुका है। और जब अनुच्छेद 370 को हटा दिया गया है, तो हम अब क्या कह सकते हैं? मैंने एक सार्वजनिक बयान दिया कि यह एक अच्छी बात है, इसे हटा दिया गया है। संसद में भी किसी ने भी इसका विरोध नहीं किया। अनुच्छेद 370 आज मुद्दा नहीं है। मैं हर सार्वजनिक बैठक में पूछता हूं, जो वहां जम्मू-कश्मीर में जमीन प्राप्त करना चाहते हैं और खेती शुरू करना चाहते हैं? कोई नहीं कहता कि वे जाना चाहते हैं। अनुच्छेद 371 के बारे में क्या? अगर मुझे नागालैंड, सिक्किम में जमीन खरीदनी है, तो मैं पूर्वोत्तर के किसी भी हिस्से में नहीं खरीद सकता। ये बड़े पैमाने पर जनता के मुद्दे नहीं हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:BJP bringing up Article 370 to divert attention from real issues says Sharad Pawar