DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा, कांग्रेस को 2020 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में 'आप' से मिलेगी टक्कर

aap chief arvind kejriwal  file photo   ht

दिल्ली में शानदार जीत के बाद भाजपा यही दौर अगले साल दिल्ली विधानसभा चुनाव तक बरकरार रखना चाहती है, जबकि कांग्रेस और आप को भगवा चुनौती का सामना करने के लिए एक साथ मिलकर काम करने की जरूरत का अहसास हो रहा है। चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, सातों सीटों पर जीतने वाली भाजपा को 56.56 प्रतिशत वोट मिले।

कांग्रेस को 22.51 प्रतिशत और आम आदमी पार्टी 18.11 प्रतिशत वोट मिले। भाजपा और कांग्रेस की वोट हिस्सेदारी में वृद्धि इस बात का संकेत है कि विधानसभा चुनाव में रोचक मुकाबला होगा। दिल्ली भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी ने कहा है कि उनकी पार्टी विधानसभा चुनाव में दिल्ली में कम से कम 60 सीटें जीतेगी और राज्य को आप और इसके प्रमुख अरविंद केजरीवाल से मुक्त कराएगी।

चार से एक सीट पर सिमटी AAP को मत प्रतिशत का भी नुकसान
दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) को लोकसभा चुनाव में महज एक उम्मीदवार की जीत से संतोष करना पड़ा है। पार्टी ने नौ राज्यों की 40 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे। शुक्रवार को घोषित मतगणना के परिणामों के मुताबिक आप को अपने गढ़ दिल्ली में पिछले चुनाव की तुलना में लगभग तीन फीसदी मतों का नुकसान उठाना पड़ा है। दिल्ली में आप को 18.10 प्रतिशत वोट मिले जबकि पिछले चुनाव में पार्टी का मत प्रतिशत 21.42 था। 

पिछले लोकसभा चुनाव में पंजाब में चार सीटों पर सफल रही पार्टी को इस बार सिर्फ संगरूर सीट ही बचा सकी। इस सीट से सांसद और आप की पंजाब इकाई के संयोजक भगवंत मान ने कांग्रेस के केवल सिंह ढिल्लो को पराजित किया है। उल्लेखनीय है कि चार से एक सांसद पर सिमटी आप के निराशाजनक प्रदर्शन ने दिल्ली में लगभग आठ महीने बाद संभावित विधानसभा चुनाव की चुनौतियों को बढ़ा दिया है। आप ने दिल्ली और पंजाब के अलावा गोवा, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, बिहार, ओडिशा और अंडमान निकोबार में भी प्रत्याशी खड़े किये थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:BJP and Congress will look to challenge AAP in 2020 Delhi assembly polls