DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Exclusive: बीटेक कर नौकरी ढूंढ रहीं चंद्राणी मुर्मू कैसे पहुंचीं संसद, पढ़ें सबसे कम उम्र की महिला सांसद का इंटरव्यू

bjd mp chandrani murmu

ओडिशा की क्योंझार सीट से बीजद सांसद चंद्राणी मुर्मू 17वीं लोकसभा में सबसे कम उम्र की सांसद हैं। 26 वर्षीय चंद्राणी आदिवासी समुदाय से हैं और इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर राजनीति में आई हैं। बजट सत्र के पहले दिन जब वह संसद पहुंचीं, तो हिन्दुस्तान के ब्यूरो चीफ मदन जैड़ा ने उनसे विस्तृत बातचीत की-

इतनी कम उम्र में राजनीति में आने का विचार कैसे आया?
मुझे विचार नहीं आया। मेरे ननिहाल के एक रिश्तेदार ने मुझे चुनाव लड़ने के लिए संपर्क किया। मैं राजनीति में सक्रिय नहीं थी और न ही किसी दल से जुड़ी थी। लेकिन मेरा रुझान राजनीति में जरूर था। दरअसल, 2017 में मैनेकनिकल इंजीनियरिंग से बी. टेक करने के बाद में नौकरी तलाश कर रही थी। इस बीच यह प्रस्ताव मिला तो मैं फौरन तैयार हो गई।

चुनाव की तैयारी कैसे की?
मैं पहले झिझक रही थी। लेकिन परिवार और पार्टी का इतना समर्थन मिला कि धीरे-धीरे सबकुछ होता गया। टिकट मिलते ही मैंने क्षेत्र में जाकर प्रचार करना शुरू कर दिया था। लेकिन बड़ी सभाओं को संबोधित करने का मौका तब मिला जब मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के साथ में प्रचार में गई। मैं क्या बोलती हूं, इस पर सबकी निगाहें थीं। इसलिए मैंने अपनी तैयारी की। विश्वास के साथ बोला और सफल रही।

आप जनता की उम्मीदों पर कैसे खरी उतरेंगी ?
मैं समझती हूं कि सभी एमपी या एमएलए जनता के लिए कार्य करते हैं। मैं भी करुंगी। दरअसल, जिस प्रकार से जनता की अपेक्षाएं होती हैं, उस हिसाब से काम नहीं हो पाता है। लेकिन मैं लोगों तक पहुंचने की कोशिश करुंगी। उनके बीच रहूंगी। लोगों को लगेगा कि सांसद हमारे लिए है।

आदिवासियों के लिए क्या करेंगी?
मेरे संसदीय क्षेत्र में 50 फीसदी से ज्यादा आदिवासी हैं। इस क्षेत्र में खदानें काफी हैं। नक्सल प्रभावित नहीं है। शिक्षा की कमी है। अभी भी 30-40 फीसदी बच्चे स्कूल नहीं पहुंच पाते। प्रचार के दौरान मैं एक गांव में गई। वहां बिजली की तारें लगी थी लेकिन बिजली नहीं थी। इन समस्याओं पर ध्यान केंद्रीत करुंगी।

आपके परिवार में कोई राजनीति में है ?
मेरे नाना कांग्रेस से दो बार सांसद रहे हैं। यह 1980 और 84 की बात है। मैं 93 में पैदा हुई और तब तक वह राजनीति छोड़ चुके थे। लेकिन इसके बावजूद लोग उनसे मिलने आते थे और उन्हें बड़ा सम्मान देते थे। बचपन की इन घटनाओं से मैं प्रभावित थी और राजनीति के प्रति संभवत मेरे रुझान का यह एक बड़ा कारण था।

महिलाओं के लिए आप क्या करेंगी ?
मैं चाहती हूं कि महिलाएं आगे बढ़े। मैंने अपने क्षेत्र में देखा है कि महिला को घर से बाहर निकलने के लिए भी पति की अनुमति लेनी पड़ती है। लोगों की इस सोच को बदलने की जरूरत है। मैं सांसद बनकर यदि दस लोगों की भी मानसिकता बदल दूं तो यह मेरे लिए बड़ी बात होगी।

युवा राजनीति में क्यों नहीं आते ?
आना चाहिए। मुझे लगता है कि यह भावना बन चुकी है कि राजनीति में भ्रष्टाचार है। युवाओं में इसमें उतर कर भ्रष्टाचार को साफ करने की भावना नहीं है। मैं यदि लोगों को इसके लिए प्रेरित कर पाई तो अच्छी बात होगी।

महिला आरक्षण विधेयक पर आप क्या सोचती हैं?
यह पारित होना चाहिए। हमारे दल ने इस बार 33 फीसदी टिकट महिलाओं को दिए थे और 50 फीसदी से ज्यादा महिलाएं सांसद चुनी गई हैं। उन्होंने बड़ा रिस्क लिया।

संसद में नए सांसद उम्मीदों के साथ आते हैं। लेकिन उन्हें बोलने के लिए कुछ ही मिनट बमुश्किल मिल पाते हैं?
यदि मुझे तीन मिनट का भी समय मिलेगा तो मैं उसका सदुपयोग करुंगी। कम समय में अपनी बात कहूंगा। इस समय का पूरा फायदा उठाने की जिम्मेदारी मेरी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:BJD MP Chandrani Murmu exclusive interview after Victory in Lok sabha Election 2019