ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशहिंदू-मुस्लिम राजनीति की काट है नीतीश कुमार का आरक्षण दांव, लोकसभा चुनाव में कितना फायदा?

हिंदू-मुस्लिम राजनीति की काट है नीतीश कुमार का आरक्षण दांव, लोकसभा चुनाव में कितना फायदा?

एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल स्टडीज के पूर्व निदेशक डीएम दिवाकर ने कहा कि जाति सर्वेक्षण और आरक्षण में बढ़ोतरी का बड़ा असर हिंदू-मुस्लिम की पॉलिटिक्स पर होगा और इससे बीजेपी को चुनावी नुकसान होगा।

हिंदू-मुस्लिम राजनीति की काट है नीतीश कुमार का आरक्षण दांव, लोकसभा चुनाव में कितना फायदा?
Madan Tiwariअरुण कुमार, हिन्दुस्तान टाइम्स,पटनाThu, 09 Nov 2023 09:20 PM
ऐप पर पढ़ें

Loksabha Election 2024: अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव से कुछ महीने पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़ा दांव चला है। जातिगत सर्वे के आंकड़े सामने आने के बाद बिहार में आरक्षण का दायरा बढ़ाकर 60 से 75 फीसदी कर दिया गया। बिहार विधानसभा में यह बिल गुरुवार को पास भी हो गया। कुछ समय पहले ही नीतीश कैबिनेट ने इसे मंजूरी दी थी। लोकसभा चुनाव से पहले नीतीश का यह दांव बीजेपी के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकता है। बिहार की महागठबंधन सरकार के आरक्षण बढ़ाने वाले फैसले का वहां विपक्ष में मौजूद बीजेपी ने भी विरोध नहीं किया है।

'बीजेपी को चुनावी नुकसान हो सकता है'
राजनैतिक जानकारों के अनुसार, विपक्षी इंडिया गठबंधन के लिए यह जातिगत सर्वे हिंदू-मुस्लिम की राजनीति का काउंटर होगा। एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल स्टडीज के पूर्व निदेशक डीएम दिवाकर ने कहा कि जाति सर्वेक्षण और आरक्षण में बढ़ोतरी का सबसे बड़ा असर हिंदू-मुस्लिम की पॉलिटिक्स पर होगा और इससे बीजेपी को चुनावी नुकसान हो सकता है। उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों में जाति जनगणना की मांग इसकी राष्ट्रीय गूंज को बढ़ाएगी। 

बिहार 'इंडिया' के लिए मंच तैयार करने में रहा कामयाब
दिवाकर ने आगे कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी द्वारा सत्ता में आने के बाद देश में जाति जनगणना का वादा करना एक बड़ा बदलाव है और एक धारणा बनाई जा रही है कि यह कांग्रेस नहीं बल्कि भाजपा है जो जाति जनगणना के खिलाफ है, और यही कारण है कि उसने जनगणना को रोक दिया है। बिहार 'इंडिया' के लिए मंच तैयार करने में कामयाब रहा है। गठन। एजेंडा तय किया है, पहले के विपरीत जब भाजपा ने चुनावों के लिए एजेंडा तय किया था। उप-जातियों की बढ़ती आकांक्षाओं के कारण दरारें भी समय के साथ बढ़ेंगी, लेकिन यह राज्य चुनावों के दौरान होगा। 2024 के आम चुनावों के लिए, नया सशक्तीकरण पिछड़े वर्गों को प्रेरित करेगा और यह धार्मिक राजनीति का एक प्रभावी मुकाबला होगा।

उन्होंने आगे बताया कि पिछड़े मुसलमानों की पसमांदा राजनीति को बढ़ावा मिलेगा। पसमांदा मंसूरी डेवलपमेंट रिसर्च फाउंडेशन (पीएमडीआरएफ) के निदेशक प्रोफेसर फिरोज मंसूरी ने कहा कि यह पहली बार है कि पिछड़े मुसलमानों को अपनी संख्यात्मक ताकत का पता चला है और वे इस जानकारी का उपयोग उन नेताओं और पार्टियों के साथ जुड़कर अपने विकास के लिए विवेकपूर्ण तरीके से कर सकते हैं। उन्होंने कहा, ''पसमांदा मुसलमान मुस्लिम वोटों का मुख्य हिस्सा हैं, जोकि लगभग 85%, लेकिन वे बेहद गरीबी में हैं। वे नहीं चाहेंगे कि बिना किसी विकास के महज वोट बैंक बनकर रह जाएं। पसमांदा मुसलमान सुरक्षा और प्रगति के लिए वोट करेंगे। हमें उम्मीद है कि नेता हमारी चिंताओं को समझेंगे और साझा करेंगे। हम उन्हें अपनी आवाज सुनाएंगे।''

'मुस्लिमों के वोटों पर नहीं पड़ेगा सर्वे का असर'
उधर, मार्जिनैलिटीज एंड मोबिलिटीज अमंग इंडियाज मुस्लिम्स के सह-संपादक, समाजशास्त्री प्रोफेसर तनवीर फजल ने तर्क दिया कि हालांकि जनगणना बिहार में मुसलमानों के वोट देने के तरीके को प्रभावित नहीं करेगी, लेकिन अब भी यह देखना बाकी है कि आरक्षण में वृद्धि के खिलाफ ऊंची जातियां कैसे पीछे हटेंगी। उन्होंने कहा, ''चुनावी संदर्भ में, जाति जनगणना से बिहार में मुस्लिम राजनीति पर कोई फर्क नहीं पड़ता है। मुस्लिम वोटों का बड़ा हिस्सा बिहार में जनता दल (यूनाइटेड), राष्ट्रीय जनता दल और अन्य धर्मनिरपेक्ष संरचनाओं वाले महागठबंधन (महागठबंधन) को जाता है। हालांकि, यह इस तर्क को ताकत दे सकता है कि जहां तक सामाजिक विकास का सवाल है, 'पसमांदा' श्रेणी के तहत कुछ मुस्लिम जाति समूहों पर ध्यान देने की आवश्यकता है, और अब यह अच्छी तरह से प्राप्त हो सकता है।''

'राजनीतिक मंथन सही मायने में शुरू हुआ'
इसके अलावा, अर्थशास्त्री प्रोफेसर नवल किशोर चौधरी का कहना है कि चीजें पहले से ही मंडल राजनीति के पुनरुद्धार की दिशा में आगे बढ़ती दिख रही हैं। वे कहते हैं, ''बढ़ती जातिगत चेतना पहले से ही भाजपा या यहां तक कि वामपंथी प्रतिक्रिया के तरीके में अपना प्रभाव दिखा रही है। वामपंथी अब तक वर्ग की बात करते थे, अब जाति की भी बात कर रहे हैं। दक्षिणपंथी गरीबों को एक जाति के रूप में बताने की बात कर रहे हैं और अगले पांच वर्षों के लिए मुफ्त राशन देने की बात कर रहे हैं। ये सब संकेत देते हैं कि राजनीतिक मंथन सही मायने में शुरू हो चुका है। बिहार ने इसे शुरू किया है और इसे पूरे देश में बनाने का प्रयास किया जा रहा है, लेकिन केवल समय ही बताएगा कि यह कितना आगे तक जाता है।''

'बिहार तक ही सीमित रहेगा सर्वे और आरक्षण का असर'
इसके अलावा, चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर, जो मतदाताओं को शिक्षित करने के लिए जन सुराज पदयात्रा पर पिछले अक्टूबर से पूरे बिहार में घूम रहे हैं, का मानना है कि सर्वेक्षण और आरक्षण में बढ़ोतरी ग्रैंड अलायंस (जीए) के लिए प्रतिकूल हो सकती है और इसका प्रभाव बिहार तक ही सीमित रह सकता है। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार और लालू प्रसाद तीन दशकों से अधिक समय से सत्ता में हैं और ऐसा क्यों है कि उन्हें कोटा बढ़ाने की आवश्यकता अब ही महसूस हुई है? यह सरासर राजनीति है। सभी जाति के नेताओं में धीरे-धीरे राजनीतिक जागृति आ रही है कि वे किसी विशेष समूह को दूसरों पर प्रभुत्व जमाने की अनुमति न दें। यह उन लोगों के लिए प्रतिकूल साबित हो सकता है जो इससे भरपूर लाभ पाने की आशा रखते हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें