DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाढ़ के साइड इफेक्ट: थाने पहुंचने के लिए आम आदमी ही नहीं, पुलिस वाले भी ले रहे नाव का सहारा

floods in bihar

उत्तर बिहार में इन दिनों बाढ़ का कहर जारी है। बिाहर के अलग-अलग जिलों में बाढ़ से अब तक 78 लोगों की मौत हो चुकी है। बाढ़ की वजह से राज्य के 12 जिलों के 5.5 मिलियन लोग प्रभावित हुए हैं। शहर से लेकर गांवों तक में पानी भर गया है, जिसके चलते लोगों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बाढ़ का कहर इतना है कि पुलिस थाने भी जलमग्न होने के कगार पर हैं। मुजफ्फरपुर में बाढ़ की वजह से अहियापुर थाने तक पहुंचने के लिए आम नागरिकों की तरह पुलिस वालों को भी नाव का सहारा लेना पड़ रहा है। क्योंकि अहियापुर थाना पूरी तरह से बाढ़ की पानी में डूब गया है।

समाचार एजेंसी एएनआई ने कुछ तस्वीरें जारी की हैं, जिसमें साफ देखा जा सकता है कि मुजफ्फरपुर का अहियापुर थाना बाढ़ में डूब चुका है। आम लोगों के साथ-साथ पुलिस वालों को भी थाने में जाने के लिए नाव का सहारा लेना पड़ रहा है।

गौरतलब है कि राज्य में बाढ़ से अब तक हजारों लोग बेघर हो गए हैं। लोगों के घरों में, खेतों में बाढ़ का पानी भर गया है। जहां एक तरफ कुछ इलाकों में बाढ़ का पानी कम हो रहा है तो वहीं कुछ इलाकों में बाढ़ का पानी बढ़ रहा है। राज्य सरकार द्वारा राहत-बचाव अभियान चलाया जा रहा है। राज्य सरकार ने बाढ़ प्रभावित लोगों को रुपए भेजने शुरू कर दिए हैं। सरकार हर बाढ़ पीड़ित के खातें में 6 हजार रुपए डाल रही है।

सरकार का कहना है कि कुछ नदियों का पानी खतरे के निशान से नीचे आ गया है लेकिन कुछ अभी भी खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। बाढ़ का पानी उतरने की वजह से कई पुल और सड़के बह गए हैं। राज्य सरकार का कहना है कि वह हर हालात पर नजर बनाए हुई है। गौरतलब है कि नेपाल में भी इस समय जबरदस्त बाढ़ आई हुई है जिसका सीधा असर बिहार के सीमावर्ती जिलों पर पड़ रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bihar Flood people including Police reache Police stationby Boat in Muzaffarpur