अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्नाटक: बीएस येदियुरप्पा के सामने बहुमत साबित करना बड़ी चुनौती

येदियुरप्पा

सुप्रीम कोर्ट से राहत के बाद गुरुवार को भाजपा के बीएस येदियुरप्पा ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली। इसके साथ ही सियासी जंग और तेज हो गई। एक ओर कांग्रेस-जेडीएस के विधायकों ने राजभवन के बाहर धरना दिया वहीं, तीसरी बार मुख्यमंत्री बने येदियुरप्पा ने दावा किया कि वह बहुमत साबित कर देंगे। हालांकि बहुमत का आंकड़ा जुटाना उनके लिए बड़ी चुनौती होगी। 

बिहार में आरजेडी, गोवा में कांग्रेस सरकार बनाने का दावा पेश करेगी

भाजपा को सरकार बनाने का न्योता मिलने के बाद कांग्रेस ने बुधवार आधी रात को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। देर रात 2:11 बजे से सुबह 5:58 बजे तक चली सुनवाई के बाद शीर्ष अदालत ने शपथग्रहण पर रोक लगाने की कांग्रेस की मांग को खारिज कर दिया था। 

लिंगायत समुदाय में खासा प्रभाव रखने वाले 75 वर्षीय येदियुरप्पा को राज्यपाल वजुभाई वाला ने राजभवन में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। फिलहाल अकेले ही शपथ लेने वाले येदियुरप्पा के पास विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय है। सदन में भाजपा के पास 104 विधायक हैं जो बहुमत के 112 के आंकड़े से आठ विधायक कम है। कर्नाटक की 224 विधानसभा सीटों में से 222 सीटों के लिए मतदान हुआ था। 

एक दिन के सीएम हैं येदियुरप्पा, बहुमत के लिए संख्याबल नहीं-कांग्रेस

खरीद फरोख्त का आरोप: अपने विधायकों को कथित खरीद-फरोख्त की कोशिशों से बचाने के लिए जेडीएस और कांग्रेस ने उन्हें रिसार्ट और होटलों में रखा है। वहीं जेडीएस नेता कुमारस्वामी ने आरोप लगाया कि विधायकों को तोड़ने के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) जैसी एजेंसियों का इस्तेमाल किया जा रहा है।
कांग्रेस धरना देगी : शपथग्रहण के खिलाफ कांग्रेस शुक्रवार को देशभर में धरना प्रदर्शन करेगी। गुरुवार को राजभवन पर धरने में गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे और अशोक गहलोत सहित पार्टी के कई शीर्ष नेता शामिल हुए। बाद में, पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा भी धरना स्थल पर पहुंचे। 

धरने में बड़े नेता शामिल: राजभवन के सामने महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे और अशोक गहलोत सहित पार्टी के कई शीर्ष नेता धरना पर बैठे। बाद में, वहां जद (एस) प्रमुख एचडी देवगौड़ा और गठजोड़ के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार कुमारस्वामी ने भी धरना दिया। 

कर्नाटक: बहुमत जुटाने पर बोले येदियुरप्पा,एक-दो दिन का इंतजार कीजिए    

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई
भाजपा को सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार सुबह समर्थक विधायकों का पत्र सौंपना है जबकि उनके पास 104 विधायक ही हैं। ऐसे में पार्टी के लिए आठ विधायकों के समर्थन का आंकड़ा जुटाना एक बड़ी चुनौती है।

बीएस येदियुरप्पा ने कहा है कि मैं विश्वासमत हासिल करने को लेकर आश्वस्त हूं और मेरी सरकार पांच साल पूरे करेगी। बहुमत साबित करने के लिए 15 दिनों तक इंतजार नहीं करूंगा। बीजेपी को सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार सुबह 10.30 बजे समर्थक विधायकों की लिस्ट सौंपनी है।  ऐसे में आज ही दिन बचता है। येदियुरप्पा मुख्यमंत्री की शपथ ले चुके हैं। इसके बाद उनके सामने विधानसभा में बहुमत साबित करने की चुनौती है। लेकिन इससे पहले उन्हें सुप्रीम कोर्ट में भी अग्निपरीक्षा में पास होना होगा। समर्थन का पत्र कोर्ट में शुक्रवार को रखना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Big challenge to prove majority in Karnataka BS Yeddyurappa