Bhopal Express collides with goods train and survived from big accident - यूपी: पलटी मालगाड़ी से टकराई भोपाल एक्सप्रेस, टला बड़ा हादसा DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी: पलटी मालगाड़ी से टकराई भोपाल एक्सप्रेस, टला बड़ा हादसा

bhopal express

आगरा-मुंबई ट्रैक पर गुरुवार देर रात बड़ा हादसा होने से बच गया। पटरी से उतरे मालगाड़ी के दो डिब्बे भोपाल एक्सप्रेस के इंजन से टकरा गए। ट्रेन की गति धीमी होने की वजह से बड़ा हादसा होने से बच गया। हादसे की वजह से अप और डाउन ट्रैक करीब 10 घंटे बाधित रहा। ट्रैक बाधित होने की वजह से आठ ट्रेनों को निरस्त कर दिया गया, तीन ट्रेनों को डायवर्ट किया गया और दो ट्रेनों को बीच सफर में ही निरस्त कर दिया गया। रेलवे सूत्रों का कहना था कि हबीबगंज एक्सप्रेस की गति तेज होती तो हादसा बहुत गंभीर हो सकता था। रेलवे ने हादसे की जांच के आदेश दे दिए हैं।

आगरा कैंट स्टेशन से रात करीब एक बजे एक खाली मालगाड़ी ग्वालियर की तरफ रवाना हुई। रात 2:25 बजे जब ट्रेन बिरला नगर स्टेशन के होम सिग्नल के पास पहुंची तो अचानक ट्रेन के चार डिब्बे पटरी से उतर गए। इंजन से 21वें नंबर से 24वें नंबर के डिब्बे पटरी से उतरते ही ट्रैक बाधित हो गया। ओएचई लाइन टूट गई। ओएचई के टूटते ही अप लाइन की ट्रेनें जहां की तहां खड़ी हो गईं। पटरी से उतरे दो डिब्बे डाउन लाइन पर पहुंच गए। जब तक रेलवे को घटना की सूचना मिलती, तब तक 12723 हबीबगंज-हजरत निजामुद्दीन भोपाल एक्सप्रेस वहां से गुजरी। कॉशन ऑर्डर लगा होने की वजह से ट्रेन की गति धीमी थी। अंधेरा होने की वजह से हबीबगंज एक्सप्रेस के चालक को डाउन ट्रैक पर पड़े डिब्बे नहीं दिखे। ट्रेन का इंजन खाली डिब्बों से तेज आवाज के साथ टकराया। इंजन के टकराते ही चालक ने तुरंत इमरजेंसी ब्रेक लगाए। रेलवे कंट्रोल को घटना की सूचना दी। सूचना मिलते ही रेलवे ने दोनों ट्रैक पर रेल यातायात रोक दिया।

युवक ने विमान की इमरजेंसी डोर खोल मुश्किल में डाली 170 यात्रियों की जान

आनन-फानन में रेलवे की रिलीफ वैन और कर्मचारी-अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए। रात होने की वजह से राहत के काम में दिक्कत आ रही थी। कर्मचारियों ने सबसे पहले डाउन ट्रैक को साफ करना शुरू कर दिया। डाउन ट्रैक को क्लीयर करने के बाद सबसे पहले भोपाल एक्सप्रेस को निकाला गया। हादसे की वजह से ट्रेन करीब चार घंटे देरी से रवाना हुई। इसके बाद कर्मचारियों ने पटरी से उतरे डिब्बों को किनारे करने का काम शुरू किया। डाउन ट्रैक पर पहली ट्रेन सुबह करीब नौ बजे गुजरी। अप लाइन पर पहली ट्रेन भोपाल शताब्दी दोपहर 12.10 बजे गुजारी गई। घटनास्थल झांसी रेल मंडल के अंतर्गत था।

घंटों परेशान रहे हजारों यात्री
हादसे की वजह से हजारों रेल यात्री घंटों परेशान रहे। हादसे की खबर मिलते ही रेलवे ने ट्रेनों को अलग-अलग स्टेशनों पर रोक दिया। अप और डाउन ट्रैक पूरी तरह बंद रहे। दर्जनों ट्रेन घंटों तक एक ही स्टेशन पर खड़ी रहीं। ट्रेनों में सफर कर रहे यात्रियों को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ा। रेलवे ने ट्रेनों को आगरा, मथुरा, बाद, धौलपुर, मुरैना, कोसीकलां, पलवल स्टेशनों पर खड़ा कर दिया था। स्टेशनों पर ट्रेन में सवार होने आए हजारों यात्री भी परेशान रहे।

दर्जनों ट्रेन हो गई प्रभावित
रेलवे ने झांसी-आगरा पैसेंजर, आगरा-झांसी पैसेंजर, ग्वालियर-भिंड पैसेंजर, भिंड-ग्वालियर पैसेंजर, आगरा-झांसी पैसेंजर, भिंड-इटावा पैसेंजर, इटावा-भिंड पैसेंजर, भिंड-ग्वालियर पैसेंजर को तत्काल रद्द कर दिया था। कालका-शिरडी सुपरफास्ट और अंब अंदौरा एक्सप्रेस को आगरा कैंट से बयाना-मक्सी-भोपाल होकर गुजारा गया। छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस को मथुरा-कोटा-भोपाल होकर निकाला गया। बलरामपुर से ग्वालियर जाने वाली सुशासन एक्सप्रेस और नई दिल्ली से झांसी जाने वाली ताज एक्सप्रेस को आगरा कैंट स्टेशन पर ही आंशिक निरस्त कर दिया गया।

सात घंटा देरी से आगरा कैंट पहुंची कर्नाटक एक्सप्रेस
डाउन की उज्जैन-देहरादून 4.40 घंटा, आंध्र प्रदेश एक्सप्रेस 4:50 घंटा, श्रीधाम एक्सप्रेस 4:52 घंटा, महाकौशल 5:08 घंटा, नांदेड़-अमृतसर सचखंड एक्सप्रेस 5 घंटा, बंगलूरू-नई दिल्ली कर्नाटक एक्सप्रेस 7 घंटा देरी से आगरा कैंट पहुंचीं। अप की नई दिल्ली-भोपाल शताब्दी 2:40 घंटा, पंजाब मेल 4:08 घंटा और स्वर्णजयंती एक्सप्रेस 2:45 घंटा देरी से आगरा कैंट पहुंची।

हादसे की वजह पता करने के लिए जांच के आदेश दे दिए हैं। घटनास्थल झांसी रेल मंडल के अंतर्गत आता है। हादसे के बाद ट्रैक को सुचारू करने के लिए रेल कर्मचारियों का प्रयास सराहनीय है। -एसके श्रीवास्तव, पीआरओ आगरा रेल मंडल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bhopal Express collides with goods train and survived from big accident