DA Image
30 जून, 2020|5:52|IST

अगली स्टोरी

भीमा कोरेगांव केस में NIA की याचिका पर गौतम नवलखा को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

bhima koregaon violence case sc notice to gautam navlakha on appeal of nia against delhi hc order

सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र के बहुचर्चित भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में मानवाधिकार कार्यकर्ता गौतम नवलखा को नोटिस भेजा है। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली और मुंबई की विशेष न्यायालय की न्यायिक कार्यवाही का रिकार्ड मंगाने के हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की याचिका पर मंगलवार को गौतम नवलखा को नोटिस जारी किया। 

न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा, न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर और न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी की पीठ ने वीडियो कांफ्रेन्सिंग के माध्यम से एनआईए की अपील पर सुनवाई करते हुये गौतम नवलखा को नोटिस जारी किया। नवलखा को 26 मई को दिल्ली की तिहाड़ जेल से मुंबई ले जाया गया था। पीठ ने इसके साथ ही एनआईए की अपील दो सप्ताह बाद सुनवाई के लिये सूचीबद्ध कर दी। 

पीठ ने सालिसीटर जनरल तुषार मेहता के इस कथन का संज्ञान लिया कि दिल्ली हाई कोर्ट ने अपने अधिकार क्षेत्र के बगैर ही निचली कोर्ट के रिकार्ड पेश करने के लिये 27 मई का आदेश दिया है।

हाई कोर्ट ने नवलखा की अंतरिम जमानत की याचिका लंबित होने के दौरान ही उन्हें मुंबई ले जाने के लिये अनावश्यक जल्दबाजी करने पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी को आड़े हाथ लिया था।

कोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि नवलखा को सप्ताहंत और अवकाश (ईद) के दिन मुंबई और दिल्ली में आवेदन दायर करने और ई-मेल से आदेश प्राप्त करने में राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने बहुत जल्दबबाजी दिखाई जिसकी वजह से ये कार्यवाही निरर्थक हो गयी। इस मामले में शीर्ष कोर्ट के निर्देशों का पालन करते हुये नवलखा ने 14 अप्रैल को राष्ट्रीय जांच एजेंसी के समक्ष समर्पण कर दिया था और इसके बाद उसे तिहाड़ जेल में रखा गया था।

कोर्ट ने कहा कि इस मामले की सुनवाई की पिछली तारीख पर एनआईए को स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने के लिये पर्याप्त समय दिया गया था और एजेंसी ने अंतरिम जमानत की अर्जी का विरोध करते हुये हलफनामा दायर किया था। कोर्ट ने कहा कि पहली नजर में ऐसा लगता है कि जब पिछली तारीख पर एनआईए को अंतरिम जमानत की याचिका में स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने के लिये पर्याप्त समय दिया गया और उसने इसका विरोध करते हुये हलफनामा भी दाखिल किया, इसके बावजूद जांच एजेंसी ने आवेदक को उनके अधिकार क्षेत्र से बाहर करने के लिये अनावश्यक जल्दबाजी दिखाई। 

नवलखा ने कोर्ट से कहा था कि उसकी अंतरिम जमानत की अर्जी लंबित होने के दौरान ही 23 मई को एनआईए ने दिल्ली के विशेष न्यायाधीश (एनआईए) से उसकी न्यायिक हिरासत की अवधि 22 जून तक बढ़ाने का अनुरोध किया। लेकिन 24 मई को जांच एजेंसी ने नवलखा को मुंबई की एनआईए कोर्ट में पेश करने के वारंट के लिये एक अर्जी दायर की । 

यही नहीं, ईद के अवसर पर राजकीय अवकाश होने के बावजूद 25 मई को नवलखा को दिल्ली से मुंबई ले जाने की ट्रांजिट रिमांड के लिये तिहाड़ जेल के संबंधित जेल अधीक्षक के समक्ष भी आवेदन दायर किया गया था।।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bhima Koregaon violence case SC notice to Gautam Navlakha on appeal of NIA against Delhi HC order