DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैदान के महारथी: बेहतर वक्ता, सफल वकील और कुशल नेता हैं रविशंकर

Ravishankar Prasad

समाचार चैनल हो या सभा-सेमिनार, धुर विरोधियों को अपने शब्दों से चुप कराने वाले रविशंकर प्रसाद भाजपा के कद्दावर नेता हैं। तथ्यों के साथ मजबूती से तर्क रखने वाले रविशंकर प्रसाद की जितनी अच्छी पकड़ हिंदी पर है, उतनी ही अंग्रेजी पर भी है। मौका कोई भी हो, सामने वाले को अपने तर्कों से निरुत्तर करने वाले प्रसाद का लोहा हर कोई मानता है।

वर्तमान में वह विधि एवं न्याय और सूचना प्रसारण मंत्रालय का पदभार संभाल रहे हैं। चार बार राज्यसभा सांसद रहे रविशंकर प्रसाद पहली बार पटना साहिब लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। उन्हें शत्रुघ्न सिन्हा के संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी बनाया गया है और उनका मुकाबला अब कांग्रेस में जा चुके शत्रुघ्न से ही है। उन्होंने 70 के दशक में इंदिरा गांधी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों का आयोजन कर छात्र नेता के रूप में राजनीतिक जीवन में प्रवेश किया था। प्रसाद ने आपातकाल के दौरान जयप्रकाश नारायण की अगुवाई में बिहार में छात्र आंदोलन का नेतृत्व किया और जेल भी गए। कई वर्षों तक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के साथ जुड़े रहे और संगठन में विभिन्न पदों जिम्मेदारियों को संभाला।

रविशंकर प्रसाद ने वर्षों तक भाजपा की युवा शाखा और पार्टी संगठन में राष्ट्रीय स्तर का दायित्व संभाला। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता बने। पिछले 10 वर्षों से वह पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य हैं। बिहार के चर्चित चारा घोटाला में मजबूती से पक्ष रखने के कारण देशभर में इनकी पहचान बनी। नर्मदा बचाओ आंदोलन, बिहार विधानसभा भंग मामला, भारत में चिकित्सा शिक्षा पर प्रो. यशपाल का मामला आदि प्रमुख मुकदमों में उन्होंने वकालत की। अयोध्या मुकदमे के तीन अधिवक्ताओं में से एक रविशंकर प्रसाद भी थे।

निजी जीवन

  • पटना में 30 अगस्त 1954 को जन्म
  • पिता ठाकुर प्रसाद भी पटना हाईकोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ता थे
  • जन संघ के शुरुआती संस्थापकों में से एक थे ठाकुर प्रसाद
  • रवि शंकर प्रसाद ने पटना विश्वविद्यालय से वकालत की पढ़ाई की
  • परिवार में पत्नी डॉ. माया शंकर के अलावा एक पुत्र व एक पुत्री

राजनीतिक जिम्मेदारियां

  • 1991 से 1995 तक भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष
  • 1995 के बाद से भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य
  • 2000 में पहली बार राज्यसभा के लिए निर्वाचित
  • 2006 से भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाए गए
  • 2006 में दूसरी बार राज्यसभा के लिए निर्वाचित
  • 2012 में तीसरी बार राज्यसभा के लिए निर्वाचित
  • 2018 में राज्यसभा के लिए चौथी बार चुने गए

कई मंत्रालय संभाले

  • 2001 से 2003 के बीच कोयला व खनन राज्यमंत्री और विधि व न्याय राज्य मंत्री रहे
  • 29 जनवरी 2003 से मई 2004 तक सूचना और प्रसारण मंत्री
  • 2014 से संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री और विधि मंत्री

सोशल प्रोफाइल

  • 31,72,398 फॉलोअर्स ट्विटर पर
  • नंवबर, 2013 से सोशल मीडिया पर सक्रिय
  • 21 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स फेसबुक पर
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:better speaker successful lawyer and efficient leader Ravishankar