Thursday, January 27, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशखुर्रम परवेज पर UN के बयान पर भारत की फटकार, आरोपों को बताया निराधार

खुर्रम परवेज पर UN के बयान पर भारत की फटकार, आरोपों को बताया निराधार

हिन्दुस्तान,नई दिल्लीAditya Kumar
Thu, 02 Dec 2021 06:56 PM
खुर्रम परवेज पर UN के बयान पर भारत की फटकार, आरोपों को बताया निराधार

इस खबर को सुनें

खुर्रम परवेज की आतंकवाद के संबंध में हुई गिरफ्तारी को लेकर संयुक्त राष्ट्र के बयान पर भारत ने करारा जवाब दिया है। विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा है कि यूनाइटेड नेशंस हाई कमिशनर फॉर ह्यूमन राइट्स (OHCHR) का बयान भारत के कानून प्रवर्तन अधिकारियों और सुरक्षा बलों के खिलाफ निराधार आरोप है। बागची ने आगे कहा है कि इस बयान से पता चलता है कि भारत सीमा पार के आतंक से किस तरह से सामना कर रहा है और उससे हमारे लोगों के मौलिक अधिकार किस तरह प्रभावित हो रहे हैं, उसका उन्हें अंदाजा तक नहीं है।

नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी द्वारा परवेज को गिरफ्तार करने के एक हफ्ते के बाद OHCHR ने खुर्रम परवेज के हिरासत में लिए जाने पर चिंता जताई थी और भारत सरकार से उनके अधिकारों की पूरी तरह से रक्षा करने की अपील की थी। OHCHR ने सिविल सोसाइटी एक्टर्स पर कार्रवाई, व्यापक आतंकवाद विरोधी उपायों के इस्तेमाल और नागरिकों के मौत पर भी चिंता जताई थी।

OHCHR के प्रवक्ता रूपर्ट कोलविल ने कहा था कि हम भारतीय आतंकवाद विरोधी कानून, गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (UAPA) के तहत कश्मीरी मानवाधिकार कार्यकर्त्ता खुर्रम परवेज की गिरफ्तारी से बहुत चिंतित हैं। हम उनके व्यक्तिगत स्वतंत्रता के उनके अधिकार की पूरी तरह से रक्षा करने और उन्हें रिहा करने के लिए एहतियाती कदम उठाने की अपील करते हैं।

बागची ने OHCHR से कहा है कि प्रतिबंधित आतंकी संगठनों को 'सशस्त्र समूहों' के तौर पर बताना, OHCHR के साफ पूर्वाग्रह को दर्शाता है। एक लोकतांत्रिक देश के तौर पर भारत हमेशा से अपने नागरिकों के मानवाधिकारों को बढ़ावा देने और उनकी रक्षा करने के साथ भारत सीमा पार आतंक का मुकाबला करने के लिए सभी जरूरी कदम उठाता है।

बागची ने आगे कहा है कि भारत में अधिकारी कानून के उल्लंघन के खिलाफ काम करते हैं न कि कानून के खिलाफ। हम OHCHR से मानवाधिकारों पर आतंकवाद के नकारात्मक प्रभाव की बेहतर समझ विकसित करने की अपील करते हैं।

epaper

संबंधित खबरें