DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › बोम्मई ने ली कर्नाटक के सीएम की शपथ, येदियुरप्पा के पैर छूकर लिया आशीर्वाद, कहा- काम आएगा अनुभव
देश

बोम्मई ने ली कर्नाटक के सीएम की शपथ, येदियुरप्पा के पैर छूकर लिया आशीर्वाद, कहा- काम आएगा अनुभव

हिन्दुस्तान ,बेंगलुरुPublished By: Surya Prakash
Wed, 28 Jul 2021 11:35 AM
बोम्मई ने ली कर्नाटक के सीएम की शपथ, येदियुरप्पा के पैर छूकर लिया आशीर्वाद, कहा- काम आएगा अनुभव

कर्नाटक के 23वें मुख्यमंत्री के तौर पर बसवराज बोम्मई ने शपथ ले ली है। वह पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की जगह लेंगे। शपथ लेने से पहले बसवराज ने कहा कि उन्हें येदियुरप्पा के लंबे अनुभव का फायदा मिलेगा। यही नहीं शपथ लेने के बाद बोम्मई ने येदियुरप्पा के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया। दो दिन पहले ही बीजेपी की स्टेट यूनिट और सरकार में खींचतना के बीच बीएस येदियुरप्पा ने पद से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि उनके इस्तीफे की एक वजह बढ़ती उम्र भी बताई जा रही है। बीएस येदियुरप्पा के करीबी कहे जाने वाले बोम्मई को सीएम बनाकर बीजेपी ने पूर्व सीएम और लिंगायत समुदाय दोनों को ही साधने का प्रयास किया है। बोम्मई भी उसी लिंगायत समुदाय से आते हैं, जिससे येदियुरप्पा का ताल्लुक था।

बसवराज बोम्मई सीएम पद की शपथ लेने के लिए सुबह 10:30 बजे ही राजभवन पहुंच गए। इस दौरान उनके नेता और पूर्व सीएम बीएस येदियुरप्पा भी साथ थे। इससे पहले उन्होंने केंद्रीय मंत्री और पर्यवेक्षक के तौर पर कर्नाटक पहुंचे धर्मेंद्र प्रधान से भी मुलाकात की। बोम्मई को मंगलवार शाम को बीजेपी हाईकमान की ओर से कर्नाटक का नया सीएम घोषित किया गया था। इससे पहले सोमवार को ही येदियुरप्पा ने पद से इस्तीफा दिया था, जिसे गवर्नर ने तत्काल स्वीकार कर लिया था। बोम्मई ने सीएम घोषित होने के बाद कहा कि वह राज्य में गरीबों के कल्याण के लिए काम करेंगे और जनहित की सरकार देंगे। 

बसवराज बोम्मई ने कहा कि वह आज ही कैबिनेट की मीटिंग बुलाएंगे। इसके बाद सीनियर अधिकारियों संग बैठक में बाढ़ और कोरोना की स्थिति को लेकर बात करेंगे। बता दें कि येदियुरप्पा ने ऐसे समय में इस्तीफा दिया है, जब राज्य में भारी बारिश के चलते बाढ़ का कहर देखने को मिला है। हालांकि बसवराज ने कोरोना और बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए पूर्व सीएम बीएस येदियुरप्पा के प्रयासों की सराहना की। बसवराज को येदियुरप्पा के करीबी नेताओं में शुमार किया जाता है। उनकी नियुक्ति से यह माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में भी येदियुरप्पा का प्रभाव कर्नाटक की राजनीति में बना रहेगा।

संबंधित खबरें