DA Image
9 जुलाई, 2020|4:02|IST

अगली स्टोरी

बालाकोट एयरस्ट्राइक का प्रमोशनल VIDEO: देखें कैसे IAF ने आसमान से बमवर्षा कर तबाह किए थे आतंकी ठिकाने

balakot air strikes video

1 / 2Balakot Air strikes video

balakot aerial strikes video released nby indian air force

2 / 2Balakot aerial strikes video released nby Indian Air Force

PreviousNext

भारतीय वायुसेना ने बालाकोट एयरस्ट्राइक का प्रमोशनल वीडियो जारी कर दिया है, जिसमें भारत ने आतंकियों के ठिकानों को बमबारी से तबाह कर दिया था। पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले के जवाब में भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया था। शुक्रवार को भारतीय वायुसेना के नये प्रमुख राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बालाकोट एयरस्ट्राइक का एक प्रमोशनल वीडियो जारी किया। इस वीडियो में बालाकोट एयरस्ट्राइक के सीन हैं। यह जानकारी समाचार एजेंसी एएनआई ने दी है।

क्या है इस वीडियो में:
भारतीय वायुसेना द्वारा जीरी इस वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले के बाद देश में पाकिस्तान स्थित आतंकवादियों के खिलाफ गुस्से का माहौल था। इसके जवाब में वायुसेना ने बालाकोट में एयरस्ट्राइक करने की योजना बनाई। इसके बाद वायुसेना के विमानों में पाकिस्तान के बालाकोट में स्थिथ जैश के आतंकी अड्डों पर निशाना बनाया और उन्हें तबाह कर दिया।

 

गौरतलब है कि इसी साल 14 फरवरी को भारतीय वायुसेना ने पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बाद बीते 26 फरवरी को बालाकोट में स्थित जैश-ए-मोहम्मद के प्रशिक्षण शिविर पर हवाई हमला किया था। जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में शहीद 40 जवान की घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था। इस घटना की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ली थी। जिसके बाद 48 साल में पहली बार भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान से वायुक्षेत्र में घुसते हुए उसके खैबर पख्तूनख्वा स्थित बालाकोट में जैश के आतंकी शिविर को ध्वस्त कर दिया था।

90 सेकेंड में पूरा हुआ था मिशन
भारतीय वायु सेना (IAF) की तरफ से पाकिस्तान स्थित बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के आतंकी शिविर पर 'मिशन' को सिर्फ 90 सेकेंड के भीतर अंजाम दिया गया था और इस ऑपरेशन के लिए जिस तरह की सीक्रेसी रखी गई थी उसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसे अंजाम देने वाले पायलट के परिवार के सदस्यों को भी इस बारे में कुछ नहीं मालूम था।

इस तरह के भारतीय वायुसेना के हमले में पहली बार इस्तेमाल किए गए मिराज-2000 लड़ाकू विमानों के एक पालयट ने बताया था कि “यह 90 सेकेंड में पूरा हो गया था, हमने बम फेंका और वापस लौट आए।” जबकि, नाम न बताने की शर्त पर भारतीय वायु सेना के एक अन्य पायलट ने कहा था “इसे कोई नहीं जानता था, यहां तक के मेरे परिवार के सदस्यों को भी नहीं मालूम था।”

बालाकोट एयरस्ट्राइक का कोडनेम था ‘ऑपरेशन बंदर’
14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में घुसकर एयर स्ट्राइक की थी। बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकाने ध्वस्त कर दिए थे और इसकी गोपनीयता बनाए रखने के लिए इसका कोडनेम ‘ऑपरेशन बंदर’ रखा था। वायुसेना के इस सैन्य ऑपरेशन के लिए 12 मिराज लड़ाकू विमानों को भेजा था। गोपनीयता बनाए रखने और योजना की जानकारी सार्वजनिक न हो यह सुनिश्चित करने के लिए बालाकोट ऑपरेशन को ‘ऑपरेशन बंदर’ कोडनेम दिया गया था।’

यही कोडनेम क्यों रखा गया? इसके पीछे की किसी खास वजह का खुलासा न करते हुए सूत्रों ने कहा था कि बंदरों का भारत में युद्ध में हमेशा से एक विशेष स्थान रहा है। भगवान राम के सेनानायक प्रभु हनुमान चुपके से लंका में घुस जाते हैं और शक्तिशाली रावण का पूरा साम्राज्य उजाड़ देते हैं। 

12 मिराज विमानों ने दागीं मिसाइलें: 26 फरवरी को 12 मिराज विमानों ने बालाकोट शहर में मौजूद जैश के आतंकी ठिकानों पर मिसाइल बरसाने के लिए उड़ानें भरी थीं। बालाकोट पाक के खैबर पख्तूनवा प्रांत में आता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Balakot aerial strikes video released nby Indian Air Force