DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

AIMPLB से निकाले जाने पर बोले नदवी-मैं खुद हुआ बाहर, समझौते की मुहिम रहेगी जारी

salman nadvi

ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के कार्यकारिणी के वरिष्ठ सदस्य मौलाना सलमान नदवी को रविवार को बोर्ड से बाहर निकाल दिया गया। उन्हें राम मंदिर की वकालत करना महंगा पड़ गया है। बता दें कि उन पर यह फैसला इसलिए लिया गया क्योंकि उन्होंने बाबरी मस्जिद को शिफ्ट किए जाने की बात की थी। 

रविवार को बोर्ड से निष्कासित किए जाने के बाद लखनऊ वापस लौटने के तत्काल बाद उन्होंने मीडिया के सामने अपनी बात रखी। ‘हिन्दुस्तान’से विशेष बातचीत में मौलाना ने अपने निष्कासन पर कहा है कि उन्हें निकाला तो रविवार को गया है, वैसे उन्होंने खुद ही शुक्रवार को हैदराबाद में बोर्ड की बैठक के पहले सत्र के बाद ही खुद को बोर्ड से अलग कर लिया था। मौलाना ने कहा कि बोर्ड से निष्कासन के बावजूद वह अयोध्या मसले को आपसी बातचीत से सुलझाने की अपनी मुहिम नहीं छोड़ेंगे।

अयोध्या: मस्जिद बाहर शिफ्ट करने का आइडिया देनेवाले नदवी AIPMLB से बाहर

मौलाना सलमान नदवी ने हिन्दुस्तान से विशेष बातचीत में कहा है कि आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड पर अब कट्टरपंथी हावी हो गए हैं, जहां उदारवादियों के लिए कोई गुंजाइश नहीं रह गयी है। बोर्ड अब ओवैसी साहब की गोद में चला गया है। आजम खां जैसे लोग बोर्ड में दखल दे रहे हैं। कासिम रसूल इलियास और कमाल फारूकी जैसे लोग बोर्ड में जो बातें कर रहे हैं-वहीं मस्जिद बनाएंगे चाहे जानें चली जाएं।

अरे ढांचा है उसको कहीं शिफ्ट करके नमाज पढ़िए। नमाज पढ़ने की फिक्र नहीं है इन लोगों को। सिर्फ मस्जिद की जगह को लेकर झगड़े की फिक्र है। मेरा तो यही कहना था कि मैं तो शरीयत को मानता हूं, हदीस को मानता हूं, पर्सनल लॉ बोर्ड की संस्तुतियों को नहीं मानता। निष्कासन के बाद भी अयोध्या विवाद को बातचीत से हल कराने की अपनी मुहिम जारी रखने के संकल्प को दोहराते हुए मौलाना ने कहा कि इसी की खातिर तो उन्होंने बोर्ड से अलगाव स्वीकार किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: babri issue salman nadvi statement after being removed from AIPMLB