Ayodhya Muslim brothers says grand Ram temple should be built - अयोध्या के मुस्लिम भाइयों ने कहा, बने भव्य राम मंदिर DA Image
12 नबम्बर, 2019|6:48|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अयोध्या के मुस्लिम भाइयों ने कहा, बने भव्य राम मंदिर

  ap photo representative image

राष्ट्रपिता बापू के प्रिय भजन “रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम, ईश्वर अल्लाह तेरो नाम सबको सनमति दे भगवान”को राम नगरी अयोध्या में दोनों धर्मों से जुड़े मौलाना और पुजारियों ने चरितार्थ करके दिखाया है। यहां के मौलाना भी चाहते हैं कि इतना भव्य राममंदिर बने जिसे देखने पूरी दुनिया आए। मंदिर-मसजिद की राजनीति समाप्त कर सिर्फ विकास की बात होनी चाहिए।
 

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद अब अयोध्या पूरी तरह सामान्य नजर आ रही है। किसी के जेहन में कोई डर भय नहीं है, सब बेफिक्र होकर अपने काम धंधे में लगे नजर आए। दोनों धर्मों के लोग अब भविष्य की अयोध्या कैसी होगी इसके सपने बुनने में जुट गए हैं।
 

काजियाना मुहल्ले में मसजिद के पास मौलाना जलाल अशरफ काजी-ए-शहर अयोध्या से मुलाकात हुई। बातचीत में उन्होंने कहा कि जो भी फैसला आया है उससे वह संतुष्ठ हैं। मेल मोहब्बत बनी रहनी चाहिए। अब अयोध्या का इतना बेहतरीन विकास किया जाना चाहिए कि देखने वाले नाम लें। इतना भव्य मंदिर बनाएं जो पूरे विश्व में जाना जाए। सड़कें बेहतर हों। हर आदमी विकास करे। उन्होंने कहा कि अयोध्या वाले तो कभी नहीं लड़ते यहां के नाम पर भले ही दूसरे लोग लड़ लें।

श्राइन बोर्ड की तरह मंदिर ट्रस्ट में मुसलिमों को शामिल करें
अंजूमन मोहाफिज मसजिद के सचिव मो. आजम कादरी ने कहा कि अब सरकार को चाहिए कि जम्मू-कश्मीर श्राइन बोर्ड की तरह अयोध्या मंदिर के लिए बनने वाले ट्रस्ट में मुसलिमों को भी जगह दे। मंदिर-मसजिद की राजनीति अब समाप्त की जानी चाहिए। मो. कादरी ने बताया कि शनिवार को अयोध्या में मोहम्मद साहेब का जुलूस निकाला जाना था।

सौहार्द बना रहे इसलिए जुलूस निकालने का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया। इसके लिए शासन-प्रशासन का कोई दबाव नहीं था। अयोध्या में अब विकास और रोजगार के साधन बनाने की जिम्मेदारी सरकार की है। बाबरी मसजिद के मुद्दई मो. उमर के साथ ही अब्दुल वाहिद कुरैशी ने कहा कि वह लोग फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने जो व्यवस्थाएं दी है उसके लागू होने का इंतजार कर रहे हैं। अब अयोध्या में विकास और एक भव्य मंदिर की राह यहां की जनता देख रही है।
 

फैसला “हम” यानी हिन्दू-मुसलमान दोनों के हित में
उदासीन आश्रम के दिव्यांशु गोस्वामी ने कहा कि यह फैसला “हम” यानी हिन्दू और मुसलिम दोनों वर्गों के हित में है। फैसले से दोनों वर्गों का दृष्टिकोण बदलेगा। अयोध्या में अब विकास का रास्ता खुलेगा। राम किसी व्यक्ति के नहीं बल्कि सर्वव्यापी और सर्वसमाज के हैं। बिड़ला मंदिर के पुजारी अंकुश झा ने कहा कि सत्य की ही जीत होती है।

फैसले का अयोध्यावासी स्वागत कर रहे हैं। अब अयोध्या का विकास होगा। वीरू तिवारी और पवन सिंह ने कहा कि फैसले का सबको आदर करना चाहिए। अयोध्या के लोग गरीबी के शिकार हैं। पर्यटन का विकास किया जाए ताकि यहां रोजगार के साधन बढ़ें। अधिवक्ता सुभाष त्रिपाठी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने संतुलित न्याय दिया है। लंबे समय से लंबित यह विवाद अब समाप्त हो गया। उम्मीद जाहिर की कि अब अयोध्या का विकास होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ayodhya Muslim brothers says grand Ram temple should be built