Ayodhya: construction of Ram temple may start since this auspicious date in 2020 - अयोध्या : 2020 में इस शुभ तिथि से शुरू हो सकता है राम मंदिर का निर्माण DA Image
12 दिसंबर, 2019|6:24|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अयोध्या : 2020 में इस शुभ तिथि से शुरू हो सकता है राम मंदिर का निर्माण

ram temple

अयोध्या में राम मंदिर का निमार्ण अगले साल अप्रैल में 'राम नवमी' से शुरू होने की संभावना है। 2०2० में 'राम नवमी' दो अप्रैल को पड़ रही है और यह पर्व भगवान राम के जन्म का उत्सव है।

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, “राम जन्मभूमि मंदिर का निमार्ण शुरू करने के लिए इससे बेहतर कोई तिथि नहीं हो सकती है। एक ट्रस्ट की स्थापना के लिए तीन महीने की समय सीमा फरवरी में समाप्त हो रही है और तब तक सभी तैयारियां पूरी हो जाएंगी। हालांकि, हम तिथि पर प्रतिबद्ध होने से पहले सरकार के साथ चर्चा करेंगे।”

निमार्ण पूर्व कार्य जनवरी में 'मकर संक्रांति' से शुरू होगा। विहिप नहीं चाहती कि मंदिर के लिए एक नया 'शिलान्यास' कार्यक्रम हो, क्योंकि यह पहले ही नवंबर 1989 में हो चुका है।


प्रसिद्ध मंदिर वास्तुकार चंद्रकांत सोमपुरा ने तैयार की थी डिजाइन-
विहिप चाहती है कि मंदिर को चंद्रकांत सोमपुरा द्वारा तैयार की गई डिजाइन के अनुसार बनाया जाए। प्रसिद्ध मंदिर वास्तुकार ने 1989 में पूर्व विहिप प्रमुख अशोक सिंघल के अनुरोध पर डिजाइन तैयार की थी और इसे देश भर के भक्तों के बीच प्रसारित किया गया था।

सोमपुरा की डिजाइन के आधार पर, अयोध्या में कारसेवकपुरम में मंदिर का एक मॉडल रखा गया है। विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि नए मंदिर का निमार्ण उसी के अनुसार होगा।” उन्होंने कहा कि मंदिर के लिए पत्थरों को तराशने और स्तंभों के निमार्ण पर काम बहुत आगे बढ़ गया है और इनका उपयोग निमार्ण में किया जाना चाहिए।

विहिप प्रमुख ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि मोदी सरकार मौजूदा राम जन्मभूमि न्यास और विहिप के प्रस्तावित ट्रस्ट सदस्यों में शामिल होगी, जो अब तक मंदिर निमार्ण की तैयारियों की देखरेख कर रहे थे। विहिप जल्द ही मंदिर निमार्ण और फंड जुटाने के तौर-तरीकों पर काम करने के लिए 'मार्गदर्शी मंडल' की बैठक आयोजित करने की योजना बना रही है।

कारसेवकपुरम में कार्यशाला में पत्थरों की नक्काशी भी इस महीने के अंत तक पूरी तरह से फिर से शुरू होने की उम्मीद है, जब अपने घर गुजरात और राजस्थान गए कारीगर लौट आएंगे। विहिप के दावे के अनुसार, मंदिर के पूर्ण निमार्ण के लिए 1.25 लाख घन फुट पत्थर की नक्काशी की गई है और पूरे मंदिर के निमार्ण के लिए 1.75 लाख घन फुट पत्थर की आवश्यकता होगी।

सूत्रों का दावा है कि मंदिर निमार्ण में लगभग चार वर्ष लगेंगे, जिसका मतलब है कि यह 2024 के आम चुनाव से पहले यह तैयार हो जाएगा।

विहिप नेता ने कहा, “केंद्र और उत्तर प्रदेश में सत्ता में भाजपा के होने के साथ, हमें विश्वास है कि कोई देरी नहीं होगी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपना पूरा सहयोग दिया है और मंदिर निमार्ण के लिए बुनियादी ढांचे के मामले में मदद करेंगे। इसे सुगम बनाने के लिए निबार्ध बिजली की आपूर्ति और सड़कों के चौड़ीकरण की मुख्य रूप से हमें आवश्यकता है।”

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ayodhya: construction of Ram temple may start since this auspicious date in 2020