Ayodhya case ram mandir Bhagwan hanuman interesting facts - अयोध्या केस में सुनवाई का वो वक्त जब प्रकट हुए हनुमान DA Image
9 दिसंबर, 2019|8:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अयोध्या केस में सुनवाई का वो वक्त जब प्रकट हुए हनुमान

ayodhya verdict date

अयोध्या के रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला आ चुका है और कोर्ट ने रामलला के पक्ष को स्वीकार करते हुए विवादित भूमि पर राम मंदिर के निर्माण को मंजूरी दे दी है। जहाँ हिन्दू समुदाय की आस्था से जुड़े इस केस में आए निर्णय को सभी पक्षों ने स्वीकार कर लिया है, वहीँ कोर्ट के फैसले की प्रति सामने आने के बाद, केस से जुड़ी कई रोचक बातें भी सामने आ रही हैं। 

अयोध्या केस में सुनवाई में एक ऐसा भी समय आया जब सुनवाई के दौरान बाबरी मस्जिद के निर्माण के समय प्रभु श्रीराम के सर्वश्रेष्ठ भक्त हनुमान के प्रकट होने की बात भी की गई। 

बता दें कि पूरे अयोध्या मामले में कोर्ट ने 5 अलग-अलग केसों में सुनवाई की, जिसमें से ‘सूट 3’ यानी तीसरा केस निर्मोही अखाड़े का था। इस केस में जब गवाहों के बयान दर्ज किए गए, तो एक बेहद दिलचस्प किस्सा सामने आया कि बाबर ने राम जन्मभूमि के नाम से पहचाने जाने वाले स्थान पर जिस ढाँचे का निर्माण करवाया, उसे मस्जिद नहीं बल्कि ‘सीता पाक’ के नाम से बनवाया गया। और ऐसा करने के पीछे कारण थे हिन्दुओं के आराध्य प्रभु हनुमान। जी हाँ! अब जब प्रभु श्रीराम ही कोर्ट केस में मुद्दई हों तो उनके सबसे बड़े भक्त माने जाने वाले हनुमान जी का ज़िक्र भला कोर्ट में कैसे न आता! निर्मोही अखाड़े के केस में महंत रामजी दास की गवाही के जिन अंशों को प्राथमिकता दी गई है, उसमें यह बात सामने आई।

महंत रामजी दास ने अपनी गवाही में यह माना कि विवादित ढांचा बाबर ने बनवाया था। लेकिन, साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इस ढांचे को मस्जिद नहीं बल्कि ‘सीता पाक’ के नाम से बनाया गया। उन्होंने दूसरी महत्वपूर्ण बात यह बताई कि यह ढांचा जन्मस्थान मंदिर को ढहाकर बनाया गया था, जिसका निर्माण बाबर ने ‘गूदर बाबा’ से करवाया था। निर्मोही अखाड़े के केस में महंत रामजी दास की गवाही से जो बातें प्रमुखता से ली गई हैं उनमें तीसरी बात इस प्रकार है - 

“बाबर ने विवादित ढाँचे पर ‘सीता पाक’ लिखवाया क्योंकि वो मस्जिद निर्माण नहीं करवा पा रहा था। क्योंकि जब भी मस्जिद निर्माण की कोशिश की जाती, हनुमान जी आकर उस ढांचे को ध्वस्त कर देते थे।’ (अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के अंतिम निर्णय की प्रति के PART M, 279 में महंत रामजी दास का उपरोक्त बयान पढ़ा जा सकता है)

ram ayodhya
ram ayodhya 2
ram ayodhya 3

महंत रामजी दास ने यह बयान देते हुए कहा था कि ऐसा उन्हें बताया गया है। उनकी गवाही में ये एक ऐसा किस्सा था, जिसका ज़िक्र अयोध्या मामले में किसी भी हिन्दू पक्ष के केस में नहीं था। अब यहाँ पर एक और बड़ा दिलचस्प सवाल उठता है कि अगर बाबर ने ढांचे पर ‘सीता पाक’ लिखवाया तो वह किस भाषा में था? 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ayodhya case ram mandir Bhagwan hanuman interesting facts