ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशअसम में बाढ़ से भारी तबाही; 39 की मौत, 4 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित

असम में बाढ़ से भारी तबाही; 39 की मौत, 4 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित

रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने कहा कि 1 लाख 71 हजार से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं। 15,160 लोगों ने अस्थायी राहत शिविरों में शरण ली है। राज्य सरकार की ओर से 17 जिलों में 245 राहत शिविर बनाए हैं।

असम में बाढ़ से भारी तबाही; 39 की मौत, 4 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित
pti06-20-2024-000134b-0 jpg
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,गुवाहाटीSat, 22 Jun 2024 05:42 PM
ऐप पर पढ़ें

असम में आई भीषण बाढ़ से करीब 4 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि राज्य में 3.90 लाख से अधिक लोगों का बाढ़ की विभीषिका से जूझ रहे हैं। भारी बारिश और बाढ़ के चलते राज्य के कई इलाकों में हालात अब भी गंभीर हैं। उन्होंने बताया कि कुछ हिस्सों में बारिश कम होने से बाढ़ की स्थिति में मामूली सुधार हुआ है, लेकिन 19 जिले अब भी बाढ़ की चपेट में हैं। अधिकारियों ने बताया कि इस साल बाढ़, भूस्खलन और आंधी से मरने वालों की संख्या 37 पर पहुंच गई है, जबकि एक व्यक्ति लापता है।

बाढ़ से कामरूप, तामुलपुर, हैलाकांडी, उदलगुरी, होजाई, धुबरी, बारपेटा, बिस्वनाथ, नलबाड़ी और बोंगाईगांव जिले अधिक प्रभावित हुए हैं। इनके अलावा बक्सा, करीमगंज, दक्षिण सलमारा, गोलपाड़ा, दरांग, बाजाली, नागांव, कछार और कामरूप महानगर जिलों में भी जनजीवन अस्त-व्यस्त हुआ है। बाढ़ प्रभावितों की संख्या गुरुवार को 4.09 लाख तक पहुंच गई थी जिसमें अब मामूली रूप से कमी आई है। हालांकि, प्रभावित जिलों की संख्या अब भी उतनी ही है। करीमगंज सबसे अधिक प्रभावित जिला है, यहां 2.40 लाख लोगों पर बाढ़ का असर पड़ा है। मालूम हो कि धरमतुल में कोपिला, बीपी घाट में बराक और करीमगंज में कुशियारा जैसी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रहीं हैं।

सामान्य से 51% अधिक हो गई बारिश
रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने बताया कि 1,71,000 से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं। 15,160 लोगों ने अस्थायी राहत शिविरों में शरण ली है। राज्य सरकार की ओर से 17 जिलों में 245 राहत शिविर बनाए हैं। करीमगंज जिले में ऐसे शिविरों की संख्या सबसे अधिक है। दरअसल, मई के आखिरी सप्ताह में चक्रवात रेमल के चलते असम को बाढ़ की पहली लहर का सामना करना पड़ा। बाढ़ की दूसरी लहर ने बीते हफ्ते मॉनसून के जल्दी आगमन के साथ राज्य में तबाही मचाई। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, असम में 1 से 19 जून के बीच 422.2 मिमी बारिश दर्ज की गई जो सामान्य से 51% अधिक है। शुक्रवार को सामान्य से 74 फीसदी कम बारिश दर्ज होने के बाद स्थिति में थोड़ा सुधार हुआ है।
(एजेंसी इनपुट के साथ)