DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  कोरोना केस घटे, अब इन इंडस्ट्रीज को मिलेगी राहत की सांस, शुरू होगी ऑक्सीजन की सप्लाई

देशकोरोना केस घटे, अब इन इंडस्ट्रीज को मिलेगी राहत की सांस, शुरू होगी ऑक्सीजन की सप्लाई

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Mrinal Sinha
Tue, 01 Jun 2021 02:22 PM
कोरोना केस घटे, अब इन इंडस्ट्रीज को मिलेगी राहत की सांस, शुरू होगी ऑक्सीजन की सप्लाई

कोविड-19 मामलों की संख्या में गिरावट और मेडिकल ऑक्सीजन की मांग में कमी को देखते हुए गृह मंत्रालय (एमएचए) ने सोमवार को कुछ इंडस्ट्री को टेंपररी बेसिस पर ऑक्सीजन की सप्लाई की अनुमति दे दी है। मेडिकल ऑक्सीजन की पर्याप्त सप्लाई सुनिश्चित होने के बाद ही ये अनुमति दी गई है। 

खबर है कि कुछ प्राथमिकता वाले उद्योगों को अगले 2-3 दिन में ऑक्सीजन मुहैय्या कराई जा सकती है। बता दें कि तरल ऑक्सीजन का उपयोग इस्पात निर्माण, रसायन, दवा, पेट्रोलियम प्रोसेसिंग और कागज निर्माण के सेक्टर में किया जाता है।

मेडिकल ऑक्सीजन की सप्लाई में न हो कमी

हालांकि मंत्रालय ने ये भी कहा है कि इससे पहले यह ध्यान रखना होगा कि राज्यों में अस्पतालों या अन्य उद्देश्य के लिए लिक्विड मेडिकल ऑक्सिजन की आपूर्ति में कोई बाधा ना आए। इसके साथ ही दवा और वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को भी ऑक्सिजन सिलेंडर की आपूर्ति निर्बाध रूप से की जानी चाहिए।

इंडस्ट्रीज में रोक दी गई थी ऑक्सीजन सप्लाई

सरकार ने अप्रैल के आखिरी सप्ताह में, कोरोना के बढ़ते मामलों और मेडिकल ऑक्सीजन की जरूरतों को देखते हुए  नॉन-मेडिकल पर्पज और मैन्यूफैक्चरिंग इंडस्ट्रीज में उपयोग होने वाली लिक्विड ऑक्सीजन को मेडिकल पर्पज के लिए डाइवर्ट कर दिया था। साथ ही  गैर चिकित्सकीय उद्देश्य के लिए तरल ऑक्सीजन के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया था। उस समय कई राज्यों की हालत गंभीर थी और कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज के लिए ऑक्सीजन की कमी देखने को मिल रही थी। तब केवल रक्षा, शीशी बनाने वाले उद्योग और फार्मास्यूटिकल्स को ही छूट दी गई थी। इस दौरान सरकार ने ऑक्सीजन उत्पादकों को भी अपना उत्पादन अधिकतम स्तर तक बढ़ाने का आदेश दिया था।

किन उद्योगों को छूट?

गृह मंत्रालय ने अब लिक्विड ऑक्सीजन के उपयोग के लिए अधिक उद्योगों को छूट दे दी है, जिसमें भट्टियां, रिफाइनरी, स्टील, एल्यूमीनियम, तांबा प्रोसेसिंग प्लांट आदि शामिल हैं। अपने आदेश में, मंत्रालय ने कहा कि “उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) इन इंडस्ट्रीज को टेंपररी बेसिस पर ऑक्सीजन की सप्लाई की अनुमति दे रहा है। दरअसल, इंडस्ट्रीज ने इस संबंध में डीपीआईआईटी से संपर्क किया था। मामले से परिचित लोगों ने कहा कि ऑक्सीजन की आपूर्ति की समीक्षा की गई और यह निष्कर्ष निकाला गया कि किसी भी अस्पताल में कोई कमी नहीं है। इसके बाद ही ये फैसला लिया गया है।

संबंधित खबरें