DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेहुल चोकसी को भारत के हवाले करने को तैयार एंटीगुआ, प्रधानमंत्री ब्राउनी ने दिये संकेत

Mehul Choksi  (HT File Photo)

पंजाब नेशनल बैंक को हजारों करोड़ रुपये का चूना लगाने वाले भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी की एंटीगुआ में मुश्किलें बढ़ गई हैं। भारत के बढ़ते दबाव के बाद एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउनी उसे भारत के हवाले करने पर राजी हो गए हैं। ब्राउनी ने कहा कि उनके देश में अपराधियों को शरण नहीं दी जा सकती।

मीडिया रिपोर्ट में ब्राउनी के हवाले से कहा गया है कि तय प्रक्रिया के तहत मेहुल चोकसी की एंटीगुआ की नागरिकता रद्द की जाएगी। उसे सभी कानूनी विकल्प मुहैया कराने के बाद भारत को सौंप दिया जाएगा।  ब्राउन ने कहा कि चोकसी को नागरिकता देने से पहले एंटीगुआ के पास उसके आपराधिक रिकॉर्ड नहीं थे, इसीलिए उसे नागरिकता दे दी गई थी। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और सीबीआई 60 वर्षीय चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी से पूछताछ की जरूरत है। दोनों पर पंजाब नेशनल बैंक को 13,400 करोड़ रुपये का चूना लगाने का आरोप है। नीरव इस समय लंदन की जेल में है।

चोकसी को पक्ष रखने का अधिकार : 
प्रधानमंत्री ब्राउनी ने भारत सरकार से कहा है कि अपराधियों के भी मौलिक अधिकार होते हैं। चोकसी को अदालत का दरवाजा खटखटाने और अपना पक्ष रखने का अधिकार है।  ब्राउनी ने कहा, ‘हमें तय प्रक्रिया का पालन करना होगा। चोकसी के खिलाफ अदालत में मामला चल रहा है। लेकिन मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि जब वह अपने पक्ष में सभी वैधानिक विकल्पों का इस्तेमाल कर लेगा, तो उसे प्रत्यर्पित कर दिए जाएगा।’
 
ईडी एयर एंबुलेंस उपलब्ध कराएगा: 
ईडी ने बंबई उच्च न्यायालय को सूचित किया है कि वह चोकसी को भारत लाने के लिए एक एयर एम्बुलेंस (रोगी के इलाज की सुविधा वाला विशेष विमान) उपलब्ध कराने को तैयार है। वहीं एंटीगुआ में चोकसी ने उच्च न्यायालय से कहा है कि उसने मुकदमे से बचने के लिए नहीं, बल्कि चिकित्सकीय उपचार के लिए भारत छोड़ा था। उसने कहा कि वह शारीरिक रूप से यात्रा के लिए ठीक होने पर भारत लौटेगा।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Antigua PM says Choksi to be extradited after court nod