ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशअंतर्राष्ट्रीय जासूसी कांड में पकड़ा गया भगोड़ा जासूस, NIA ने मैसूर से धरा नूरुद्दीन

अंतर्राष्ट्रीय जासूसी कांड में पकड़ा गया भगोड़ा जासूस, NIA ने मैसूर से धरा नूरुद्दीन

नूरुद्दीन के खिलाफ पहले एक गैर-जमानती वारंट जारी किया गया था जब वह अगस्त 2023 में कड़ी शर्तों के तहत जमानत पर रिहा होने के बाद एनआईए विशेष अदालत (चेन्नई) के सामने पेश होने में विफल रहा था।

अंतर्राष्ट्रीय जासूसी कांड में पकड़ा गया भगोड़ा जासूस, NIA ने मैसूर से धरा नूरुद्दीन
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,मैसूरWed, 15 May 2024 10:41 PM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने बुधवार को एक आरोपी को गिरफ्तार किया है जो एक श्रीलंकाई और एक पाकिस्तानी नागरिक से जुड़े जासूसी मामले में जमानत के बाद भाग रहा था। एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि नूरुद्दीन उर्फ रफी पर 5 लाख रुपये का नकद इनाम था। उसको एनआईए टीम ने कर्नाटक के मैसूर के राजीव नगर इलाके से पकड़ा है। एजेंसी ने कहा कि गिरफ्तारी के बाद, घर की तलाशी भी ली गई और मोबाइल फोन, लैपटॉप, पेन ड्राइव और एक ड्रोन सहित कई "आपत्तिजनक सामग्री" बरामद की गईं।

नूरुद्दीन के खिलाफ पहले एक गैर-जमानती वारंट जारी किया गया था जब वह अगस्त 2023 में कड़ी शर्तों के तहत जमानत पर रिहा होने के बाद एनआईए विशेष अदालत (चेन्नई) के सामने पेश होने में विफल रहा था। इसी साल 7 मई को कोर्ट ने उसे भगोड़ा घोषित कर दिया था। यह मामला श्रीलंकाई नागरिक मुहम्मद साकिर हुसैन और श्रीलंका के कोलंबो में पाकिस्तान उच्चायोग में कार्यरत पाकिस्तानी नागरिक अमीर जुबैर सिद्दीकी की आतंकी साजिश से संबंधित है।

एनआईए ने दावा किया कि उन्होंने 2014 में चेन्नई में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास और बेंगलुरु में इजरायल दूतावास में विस्फोट करने की साजिश रची थी। एनआईए की जांच से पता चला है कि नूरुद्दीन आरोपी पाकिस्तानी नागरिक के इशारे पर उच्च गुणवत्ता वाले नकली भारतीय मुद्रा नोटों के माध्यम से राष्ट्र विरोधी जासूसी गतिविधियों के वित्तपोषण में शामिल था। जांच एजेंसी ने कहा कि नूरुद्दीन के खिलाफ मुकदमा अब फिर से शुरू होगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें