DA Image
31 मार्च, 2020|4:26|IST

अगली स्टोरी

Anti CAA नाटक: कर्नाटक स्कूल मैनेजमेंट के खिलाफ राष्ट्रद्रोह मामले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती

supreme court

कर्नाटक के एक स्कूल में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में छात्रों को कथित रूप से नाटक की अनुमति देने के मामले में स्कूल प्रबंधन के खिलाफ राष्ट्रद्रोह का मामला दर्ज किए जाने को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी गई है। इस नाटक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कथित रूप से गलत छवि पेश की गई थी।

सामाजिक कार्यकर्ता योगिता भयाना ने बृहस्पतिवार (20 फरवरी) को यह याचिका दायर की है। याचिका में बीदर जिले के शाहीन स्कूल के प्रधानाचार्य और दूसरे कर्मचारियों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी निरस्त करने का अनुरोध किया गया है। इन सभी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 124-ए (राष्ट्रद्रोह) और धारा 153-ए (विभिन्न समूहों में कटुता पैदा करना) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

याचिका में राष्ट्रद्रोह के कानून का सरकार द्वारा कथित दुरुपयोग किए जाने से निबटने के लिये उचित व्यवस्था करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है। भयाना ने अपनी याचिका में स्कूल प्रबंधन, शिक्षकों और अन्य के खिलाफ दर्ज राष्ट्रद्रोह का मामला निरस्त करने का केन्द्र और कर्नाटक सरकार को निर्देश देने का अनुरोध किया है। याचिका में कहा गया है कि पुलिस ने छात्रों से भी पूछताछ की है। पुलिस द्वारा छात्रों से बातचीत करने संबंधी सीसीटीवी के वीडियो तथा स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर आने के बाद इसकी आलोचना हुई है।

'शाहीन बाग नाइट' के आयोजक छात्रों पर हैदराबाद यूनिवर्सिटी ने लगाया जुर्माना

याचिका में स्कूल के प्रधानाचार्य के हवाले से आरोप लगाया गया है कि एक अवसर पर पुलिस ने छात्रों से पूछताछ की और इस दौरान कोई बाल कल्याण अधिकारी मौजूद नहीं था। याचिका में कहा गया है कि यह कार्यवाही संविधान के अनुच्छेद 21 में प्रदत्त वैयक्तिक आजादी और जीन के अधिकार का हनन है और यह कानून की प्रक्रिया का दुरुपयोग है। 

बीदर के इस स्कूल में चौथी, पांचवीं और छठी कक्षा के छात्रों ने 21 जनवरी को एक नाटक का मंचन किया था। इस मामले में सामाजिक कार्यकर्ता नीलेश रक्श्याल की शिकायत पर 26 जनवरी को राष्ट्रद्रोह का मामला दर्ज किया गया था। इस शिकायत में आरोप लगाया गया था कि स्कूल प्रशासन ने नाटक के मंचन के लिए छात्रों का इस्तेमाल किया, जिसमें उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजी के संदर्भ में मोदी को 'बुरा भला' कहा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Anti CAA drama Sedition case against Karnataka school management challenged in Supreme Court