DA Image
28 फरवरी, 2020|8:11|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आंध्र प्रदेश विधानसभा ने विधान परिषद भंग करने का प्रस्ताव किया पारित

five reasons why y s jaganmohan reddy scuttled amaravati as andhra pradesh capital

आंध्र प्रदेश की जगन मोहन रेड्डी सरकार ने विधानसभा में विधान परिषद को भंग करने का प्रस्ताव पारित कर दिया है। इसके बाद विधानसभा आगे की प्रक्रिया के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजेगी। प्रस्ताव के पारित होने के बाद सदन को स्थगित कर दिया गया है।

आंध्र की 58 सदस्यीय परिषद में वाईएसआर कांग्रेस नौ सदस्यों के साथ अल्पमत में है। इसमें विपक्षी तेलगु देशम पार्टी के 28 सदस्य हैं। सत्तारुढ़ दल सदन में वर्ष 2021 में ही बहुमत प्राप्त कर पाएगा जब विपक्षी सदस्यों का छह साल का कार्यकाल खत्म हो जाएगा।

दरअसल, जगनमोहन रेड्डी की सरकार पिछले हफ्ते राज्य विधानसभा के उच्च सदन में राज्य में तीन राजधानियों से संबंधित महत्वपूर्ण विधेयकों को पारित करवाने में विफल रही थी। इसी के बाद यह कदम उठाया गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Andhra Pradesh assembly passes resolution to dissolve the Legislative Council