ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशसोचो अब तुम्हारा क्या होगा, बुरे दिन आने वाले हैं; 'वोट न देने वालों' को भाजपा सांसद की धमकी

सोचो अब तुम्हारा क्या होगा, बुरे दिन आने वाले हैं; 'वोट न देने वालों' को भाजपा सांसद की धमकी

सोशल मीडिया पर उनका एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह निकोबार द्वीप समूह के मतदाताओं को गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दे रहे हैं क्योंकि उन्होंने बिष्णु पद राय को वोट नहीं दिया था।

सोचो अब तुम्हारा क्या होगा, बुरे दिन आने वाले हैं; 'वोट न देने वालों' को भाजपा सांसद की धमकी
andaman and nicobar bjp mp said now nicobar your days will be bad
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,पोर्ट ब्लेयरFri, 21 Jun 2024 05:15 PM
ऐप पर पढ़ें

हाल ही में बिहार के सीतामढ़ी से जनता दल (यूनाइटेड) के नव निर्वाचित सांसद देवेश चंद्र ठाकुर ने ‘‘मुस्लिम और यादव समुदाय’’ के लिए काम न करने की चेतावनी देते हुए विवाद खड़ा कर दिया था। अब ऐसा ही मामला अंडमान और निकोबार द्वीप समूह से सामने आया है। अंडमान और निकोबार के नवनिर्वाचित भाजपा सांसद बिष्णु पद राय ने मतदाताओं को गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। 

सोशल मीडिया पर उनका एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह निकोबार द्वीप समूह के मतदाताओं को गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दे रहे हैं क्योंकि उन्होंने बिष्णु पद राय को वोट नहीं दिया था। लोकसभा चुनाव के नतीजों के एक दिन बाद 5 जून को सामने आए इस वीडियो में बिष्णु पद राय केंद्र शासित प्रदेश में एक जनसभा को संबोधित कर रहे हैं।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, भाजपा सांसद कहते हैं, "जनता का काम पूरा का पूरा होगा। लेकिन जिन लोगों ने हमें वोट नहीं दिया, उनका क्या होगा, सोच लें... सोच लेना.. निकोबार द्वीप समूह ने मुझे वोट नहीं दिया। कार निकोबार, तुम्हारा क्या होगा सोच लेना... निकोबार के नाम पर तुम पैसे लोगे, शराब पिओगे, लेकिन वोट नहीं दोगे। संभल के रहो, संभल के रहो, संभल के रहो। मुझे वादा किया था वोट देंगे, लेकिन नहीं दिया। अब तुम्हारे दिन खराब होंगे...तुम अब अंडमान और निकोबार द्वीप समूह को मूर्ख नहीं बना पाओगे। तुम्हारे दिन अब अच्छे नहीं होंगे। अभी तुम्हारा क्या-क्या होगा सोच लो।" 

इन आरोपों को लेकर भाजपा सांसद की ओर से अभी तक कोई सफाई नहीं आई है। रिपोर्ट के मुताबिक, बाद में उन्होंने इस घटना के संबंध में एक प्रेस नोट भेजा। नोट में बताया गया कि घटना के बाद कार निकोबार के मुख्य आदिवासी कप्तान के नेतृत्व में निकोबारी बुजुर्गों ने पोर्ट ब्लेयर में उनसे मुलाकात की और चुनाव जीतने पर उन्हें बधाई दी।

नोट में कहा गया है, "(निकोबार) के लोगों ने सांसद को कुछ घटनाओं के कारण समुदाय के विभिन्न वर्गों में होने वाली पीड़ा और चिंता से भी अवगत कराया। माननीय निर्वाचित सांसद ने निकोबार के लोगों के प्रति अपने गहरे लगाव और अपने पिछले कार्यकालों के दौरान समुदाय के लिए किए गए कार्यों के बारे में बात की। उन्होंने बुजुर्गों से अतीत को भूलने के लिए भी कहा और उन्हें आश्वासन दिया कि जब भी जरूरत होगी, वे आदिवासी समुदाय के मुद्दों को हल करने के लिए और भी अधिक प्रतिबद्धता के साथ काम करेंगे।" प्रेस बयान में कहा गया है कि सांसद ने चीफ कैप्टन के निकोबार आने के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है और अपने कार्यकाल के दौरान लोगों की यथासंभव सेवा करने की उम्मीद जताई है।  

भाजपा ने 4 जून को आए नतीजों में अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह की एकमात्र लोकसभा सीट जीत ली थी, जिसमें उसके उम्मीदवार बिष्णु पद राय ने कांग्रेस प्रत्याशी कुलदीप राय शर्मा को 24,087 मतों के अंतर से हराया था। भाजपा उम्मीदवार बिष्णु पद राय को 1,01,919 वोट, जबकि शर्मा को 77,832 वोट मिले। अंडमान निकोबार डेमोक्रेटिक कांग्रेस के उम्मीदवार मनोज पॉल 8,239 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर रहे।

यादव, मुसलमान समुदाय के लोगों को मुझसे किसी मदद की अपेक्षा नहीं करनी चाहिए : जद(यू) सांसद

इससे पहले सत्ताधारी गठबंधन के सांसद JDU के देवेश चंद्र ठाकुर ने ‘‘मुस्लिम और यादव समुदाय’’ के मतदाताओं पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के पक्ष में मतदान नहीं करने का आरोप लगाया और कहा कि दोनों समुदायों के लोगों को उनसे किसी मदद की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो में ठाकुर को यह कहते हुए भी सुना जा सकता है कि ‘‘राजग के अपने मतदाता’’ भी विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की ओर चले गए।

ठाकुर (71) हाल में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में करीब 55,000 मतों के अंतर से सीतामढी सीट से निर्वाचित हुए हैं। यह उनका पहला संसदीय चुनाव था। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने यह स्पष्ट कर दिया है कि यादव और मुसलमान समुदाय के लोगों को मुझसे किसी तरह की मदद की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। जब ​​वे मुझसे मिलेंगे तो उनका उपयुक्त सम्मान करूंगा, यहां तक ​​कि उन्हें चाय और नाश्ता भी कराया जाएगा। लेकिन मैं उनकी कोई भी समस्या नहीं सुनूंगा।’’