ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशआ गई खुशखबरी, नई सरकार की गठन के बाद इस रूट पर दौड़ेगी अमृत भारत, जानिए पूरी डिटेल

आ गई खुशखबरी, नई सरकार की गठन के बाद इस रूट पर दौड़ेगी अमृत भारत, जानिए पूरी डिटेल

Bhopal-Bengaluru Amrit Bharat Express: जुलाई से भोपाल और बेंगलुरु के बीच नई अमृत भारत एक्सप्रेस चलने की उम्मीद है। खबर है कि यह ट्रेन पुणे रूट से चल सकती है।

आ गई खुशखबरी, नई सरकार की गठन के बाद इस रूट पर दौड़ेगी अमृत भारत, जानिए पूरी डिटेल
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 05 Jun 2024 05:16 PM
ऐप पर पढ़ें

वंदे भारत एक्सप्रेस देशभर में प्रीमियम सेमी-हाई-स्पीड ट्रेन के रूप में सफलतापूर्वक चल रही है। वंदे भारत को यात्रियों द्वारा अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। हालांकि, इनके टिकट की कीमत थोड़ी अधिक है और इससे रात में यात्रा करना मुश्किल है, इसलिए भारतीय रेलवे सामान्य वर्ग के लिए रेल यात्रा को अधिक सुविधाजनक बनाने के लिए अमृत भारत एक्सप्रेस लेकर आई है। अब इस ट्रेन का और विस्तार करना रेलवे की योजना है। केंद्र में नई सरकार बनने के बाद यह ट्रेन और भी जगहों पर चलेगी। ऐसी खबरें हैं कि जुलाई से भोपाल और बेंगलुरु के बीच नई अमृत भारत एक्सप्रेस चलने की उम्मीद है। खबर है कि यह ट्रेन पुणे रूट से चल सकती है। हालांकि, नई ट्रेन का शेड्यूल और स्टॉपिंग स्टेशन के बारे में कोई आधिकारिक विवरण उपलब्ध नहीं है।

अमृत भारत एक्स्प्रेस में दी गई है यह सुविधाएं
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल 30 दिसंबर को अयोध्या रेलवे स्टेशन पर मालदा-बेंगलुरु और दिल्ली-अयोध्या-दरभंगा के बीच दो नई अमृत भारत ट्रेनों को हरी झंडी दिखाई थी। आम आदमी की ट्रेन के रूप में जानी जाने वाली अमृत भारत एक्सप्रेस लगभग 1,834 यात्रियों को ले जा सकती है। यह 130 किमी प्रति घंटे की टॉप स्पीड से चलती और इसमें फ्रंट-रियर इंजन है। इस ट्रेन में द्वितीय श्रेणी में स्लीपर कोच और अनारक्षित कोच होते हैं जिनमें एयर कंडीशनिंग (एसी) प्रणाली और स्वचालित दरवाजे नहीं होते हैं।

इस अमृत भारत कोच में मोबाइल चार्जिंग प्वाइंट, एलईडी लाइट, फूड टेबल, मोबाइल और बोतल होल्डर समेत कई उन्नत सुविधाएं हैं। सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमला लगाया है। अमृत ​​भारत ट्रेनों को दिन और रात के संचालन के लिए डिजाइन किया गया है। इस ट्रेन में कुल 22 डिब्बे हैं और यह एक बार में 800 किमी से अधिक की दूरी तय करती है।

वंदे भारत स्लीपर और वंदे भारत मेट्रो की हो रही तैयारी
दूर-दराज के स्थानों की यात्रा करने वाले यात्रियों की मदद के लिए रेलवे विभाग वंदे भारत स्लीपर विकसित कर रहा है। बताया जा रहा है कि ये ट्रेनें अगले कुछ दिनों में पटरी पर आ जाएंगी और राजधानी एक्सप्रेस का विकल्प होंगी। इसमें कुल 16 एसी कोच होंगे और इनमें स्व-संचालित दरवाजे और गंध रहित शौचालय होंगे। रेलवे विभाग आसपास के शहरों को जोड़ने के लिए वंदे भारत मेट्रो ट्रेन भी तैयार कर रहा है। इनके जल्द ही चलने की संभावना है। जुलाई में ट्रेन का ट्रायल हो सकता है। ज्ञात हो कि वर्तमान में 50 वंदे मेट्रो ट्रेनों का उत्पादन किया जा रहा है।