DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  बंगाल में बोले अमित शाह, साध्वी प्रज्ञा पर हिंदू टेरर के नाम से बनाया गया फर्जी केस
देश

बंगाल में बोले अमित शाह, साध्वी प्रज्ञा पर हिंदू टेरर के नाम से बनाया गया फर्जी केस

नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीमPublished By: Arun
Mon, 22 Apr 2019 10:55 AM
बंगाल में बोले अमित शाह, साध्वी प्रज्ञा पर हिंदू टेरर के नाम से बनाया गया फर्जी केस

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकता में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने राज्य की ममता बनर्जी सरकार और कांग्रेस पर कई हमले किए। अमित शाह ने कहा, जहां तक साध्वी प्रज्ञा का सवाल है तो कहना चाहूंगा कि हिंदू टेरर के नाम से एक फर्जी केस बनाना गया था, दुनिया में देश की संस्कृति को बदनाम किया गया, कोर्ट में केस चला तो इसे फर्जी पाया गया। उन्होंने कहा कि सवाल ये है कि स्वामी असीमानंद जी और बाकी लोगों को आरोपी बनाकर फर्जी केस बनाया तो, समझौता एक्सप्रेस में ब्लास्ट करने वाले लोग कहां है, जो लोग पहले पकड़े गए थे, उन्हें क्यों छोड़ा।

लोकसभा चुनाव: गुजरात में BJP के लिए फिर 26 का दांव आसान नहीं होगा

पश्चिम बंगाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमित शाह की मुख्य बातें 

1- हमारी रैली को बंगाल में अनुमति न देने वाली ममता दीदी की रैलियों को आज जनता अनुमति नहीं दे रही। उनकी रैलियों में भीड़ नहीं उमड़ रही है। बंगाल में लोकतंत्र का अस्तित्व समाप्त और कानून व्यवस्था भी विफल है।

2- बंगाल में वोटबैंक की तुष्टिकरण की राजनीति ने यहां की संस्कृति को नष्ट करने का काम किया है। पुलिस और ब्यूरोक्रेसी ने अपना रोल छोड़कर राजनेताओं का रोल ले लिया है। राजनेता मौन है, बाबू शाही बंगाल के लोकतंत्र को हड़प कर गई।

3- सभी लोकतांत्रिक हितों को बंगाल में दफन करने वाली ममता दीदी आज लोकतंत्र की बात कर रही है। बंगाल में दो चरण के चुनाव के बाद ममता बनर्जी की बौखलाहट स्पष्ट दिख रही है। उन्हें अपनी हार दिख रही है और उसी हताशा से वो अब विपक्ष और चुनाव आयोग पर सवाल उठा रही हैं।

4- हम एनआरसी को देशभर में इंप्लीमेंट करेंगे। सिटिजन अमेंडमेंट बिल के माध्यम से दूसरे देशों से धार्मिक वजहों से हमारे देश में जो लोग शरणार्थी बनकर आएं हैं, उन्हें नागरिकता देने की बात संकल्प पत्र में कही है।

5- चिटफंड घोटाले के सभी प्रमाण स्थानीय प्रशासन ने नष्ट कर दिये। ये लोग नहीं चाहते दोषियों को सजा मिले। भाजपा सरकार बनने के बाद चिटफंड घोटाले के जो भी दोषी हैं, उन सबको सजा दी जाएगी। बंगाल के अंदर लोकतंत्र स्वतंत्र नहीं है। लोगों के मत का गला घोटने का काम किया जा रहा है। मैं बंगाल की जनता से अपील करने आया हूं कि जरा भी मन में भय रखे बगैर बेखौफ होकर मतदान करिए।

6- हिंसा की एक सीमा होती है, लेकिन जब जनता तय करती है परिवर्तन करना है तो इसे कोई बदल नहीं सकता। इस बार जनता ने तय किया है कि टीएमसी को हटाना है और भाजपा को लाना है। चुनाव आयोग ने बंगाल में केंद्रीय सुरक्षा बलों को तैनात किया है। बंगाल फ्री एंड फेयर चुनाव की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

राहुल कहें तो वाराणसी से लडू़ंगी लोकसभा चुनाव- प्रियंका गांधी

7- बंगाल में लोकतंत्र का अस्तित्व समाप्त हो गया है। कानून व्यवस्था भी विफल हो गई है।  बंगाल के वोटरों से कहना चाहूंगा की डरने की जरूरत नहीं है। पूरा गांव एक साथ वोट डालने जाए, आपकी सुरक्षा के लिए सीआपीएफ और भाजपा के कार्यकर्ता लोकतंत्र के प्रहरी बनकर खड़े हैं।

8- देश की आजादी के 75 साल जब होंगे यानी 2022 तक देश में एक भी व्यक्ति, एक भी परिवार ऐसा नहीं होगा जिसके पास घर, बिजली, गैस, पीने का पानी, शौचालय न हो और एक भी परिवार ऐसा नहीं होगा जिसके पास स्वास्थ्य की सुरक्षा न हो। देश की सुरक्षा के लिए, देश के अर्थतंत्र की गाड़ी को पटरी पर लाने के लिए कठोर नेतृत्व देना का काम भाजपा ने किया है। विपक्ष के पास कोई नेतृत्व नहीं है। विपक्ष अपना न कोई नेता, न नीति देश के सामने रख पाया है। 

9- मोदी सरकार ने आतंकवाद के खिलाफ पिछले पांच साल में जीरो टॉलरेंस की नीति को अपनाया है। हमारे संकल्प पत्र में हमने इस नीति को और आगे बढ़ाने का संकल्प किया है। लेकिन विपक्षी पार्टियां देश की सुरक्षा के अहम मुद्दे  पर चुप दिखाई देती है। 2019 के आम चुनाव के पहले दो चरण का मतदान पूरा हो गया है। तीसरे चरण का मतदान कल होगा। देशभर से जो सूचनाएं प्राप्त हो रही उसके अनुसार देश की जनता पूरे उत्साह से मोदी जी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने के लिए उत्सुक है।

10- राष्ट्र की सुरक्षा के लिए भाजपा स्पष्ट नीति लाई है। चाहे आतंकवाद हो, एनआरसी हो, सिटिजन अमेंडमेंट बिल हो, चाहे धारा 370 और 35ए को हटाने की बात हो। इस सभी बातों पर हमने अपने संकल्प पत्र में स्पष्ट नीति अपनाई है।
 

इस आर्टिकल को शेयर करें
लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

सब्सक्राइब
अपडेट रहें हिंदुस्तान ऐप के साथ ऐप डाउनलोड करें

संबंधित खबरें