ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशजैसे राम मंदिर बना वैसे ही... मथुरा-काशी पर क्या बोले अमित शाह

जैसे राम मंदिर बना वैसे ही... मथुरा-काशी पर क्या बोले अमित शाह

अमित शाह ने काशी विश्वनाथ मंदिर और कृष्ण जन्मभूमि मामले के बारे में कहा है कि यह दोनों मामले कोर्ट में हैं। इनके बारे में वह कुछ कहना उचित नहीं समझते हैं।

जैसे राम मंदिर बना वैसे ही... मथुरा-काशी पर क्या बोले अमित शाह
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 15 May 2024 05:48 PM
ऐप पर पढ़ें

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने काशी विश्वनाथ मंदिर और कृष्ण जन्मभूमि मामले के बारे में कहा है कि यह दोनों मामले कोर्ट में हैं। इनके बारे में वह कुछ कहना उचित नहीं समझते हैं। गृह मंत्री अमित शाह ने न्यूज एजेंसी एएनआई को दिए अपने इंटरव्यू में पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) के बारे में भी बयान दिया है। अमित शाह का कहना है कि पीओके सिर्फ बीजेपी की प्रतिबद्धता नहीं है बल्कि देश की संसद की भी प्रतिबद्धता है। उन्होंने कहा कि पीओके भारत का हिस्सा है और इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता।

एएनआई को दिए इंटरव्यू में अमित शाह ने उन्होंने कहा, "काशी विश्वनाथ मंदिर और कृष्ण जन्मभूमि, ये दोनों मामले कोर्ट में हैं। कोर्ट ने भी इसका संज्ञान लिया है। मेरे लिए इस पर कुछ भी कहना उचित नहीं होगा। हमने कोर्ट के फैसले के बाद ही राम मंदिर का निर्माण करने का फैसला लिया।"

पीओके पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कहते हैं, ''जहां तक पीओके की बात है तो यह सिर्फ बीजेपी की प्रतिबद्धता नहीं है बल्कि देश की संसद की भी प्रतिबद्धता है। पीओके भारत का हिस्सा है और इस पर हमारा अधिकार है, इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता।"

गृह मंत्री ने विपक्ष के नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा, "फारूक अब्दुल्ला और कांग्रेस नेता कह रहे हैं कि पाकिस्तान के पास परमाणु बम है, इसलिए उनका सम्मान करें। क्या 130 करोड़ की आबादी वाला परमाणु शक्ति संपन्न भारत किसी से डर जाएगा और अपना अधिकार छोड़ देगा? राहुल गांधी को देश को समझाना चाहिए कि उनके गठबंधन के नेता क्या कह रहे हैं। क्या पाकिस्तान का सम्मान किया जाए? कभी नहीं!" 

पीओके में हो रहे विरोध प्रदर्शन पर अमित शाह ने कहा, "वहां कुप्रबंधन है, यह उनका विषय है लेकिन पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर हमारा है क्योंकि पूरा कश्मीर भारतीय संघ में विलय हो गया है। वहां अधिकार कैसे लिया जाए यह भारत का सवाल है।"