DA Image
26 जनवरी, 2020|4:48|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिन्दुस्तान पूर्वोदय में बोले अमित शाह: अरविंद केजरीवाल बताएं कि चुनाव से पहले इतनी घोषणाएं क्यों?

hindustan purvodaya sammelan 2019

हिन्दुस्तान पूर्वोदय 2019 में गृहमंत्री अमित शाह ने कश्मीर से लेकर एनआरसी पर पर अपनी राय रखी। बुधवार को हिन्दुस्तान के कार्यक्रम हिन्दुस्तान पूर्वोदय 2019 में गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार पर हमला किया और चुनाव से पहले उनकी घोषणाओं पर सवाल खड़े किए। आने वाले विधानसभा चुनावों में जीत भरोसा जताते हुए अमित शाह ने कहा कि अरविंद केजरीवाल बताएं कि चुनाव से पहले इतनी घोषणाएं क्यों। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि अरविंद केजरीवाल सरकार ने अगर सत्ता में आते ही यह किया होता तो इसकी (घोषणा) जरूरत ही नहीं पड़ती।

अमित शाह ने कहा कि प्रचंड बहुमत के साथ झारखंड, हरियाणा और महाराष्ट्र में हम सत्ता में आएंगे। दिल्ली के सवाल पर अमित शाह ने कहा कि दिल्ली में भी हम जीत हासिल करेंगे। उन्होंने कहा कि दिल्ली की जनता को भी पता लग गया है कि पिछली बार का प्रयोग विफल रहा है। हम दिल्ली एमसीडी में जीते हैं। इसलिए दिल्ली में भी जीतेंगे। दिल्ली सरकार ने वादे ढेरों किए लेकिन बताएं कि कितने पूरे किए। केजरीवाल बताएं कि चुनाव से पहले इतनी घोषणाएं क्यों। सत्ता में आते ही यह किया होता तो इसकी जरूरत ही नहीं पड़ती।

ये भी पढ़ें: गृहमंत्री अमित शाह बोले, पूरे देश में लागू होना चाहिए एनआरसी

पूरे देश में लागू होना चाहिए एनआरसी:
एनआरसी के सवाल पर अमित शाह ने कहा कि पूरे देश में यह लागू होना चाहिए। 2019 चुनाव में हमने लोगों से कहा था कि हम एनआरसी लेकर आएंगे। उन्होंने कहा कि दुनिया में कोई भी ऐसा देश नहीं है जहां पर कोई भी जाकर बस सकता है तो फिर भारत में क्यों। न केवल असम बल्कि पूरे देश में हम एनआरसी लेकर आएंगे हमने देश की जनता से वादा किया है इसका नाम है नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन इसका नाम नेशनल रजिस्टर ऑफ असम नहीं है। देश की जनता को इस पर फैसला करने का अधिकार है। क्या आप अमेरिका, इंग्लैंड जाकर बस सकते हैं? तो फिर भारत में कोई भी कैसे बस सकता है। 

हिन्दुस्तान पूर्वोदय में बोले रघुवर दास, New Traffic Fines में करेंगे संशोधन

कश्मीर पर पाबंदी:
अमित शाह ने कहा कि जम्मू और कश्मीर में कोई पाबंदी नहीं है। कश्मीर के 196 में से सिर्फ 8 पुलिस क्षेत्रों के अंदर धारा 144 लागू है और कहीं ऐसा नहीं हो रहा है। जम्मू-कश्मीर में कोई पाबंदी नहीं है। मानव अधिकारों को मोबाइल व इंटरनेट पर पाबंदी से जोड़कर देखना गलता है। पाकिस्तान की बात यहां रखना गलत है। 

कश्मीर के विकास की राह में बाधा थी धारा 370:
अमित शाह ने कहा कि कश्मीर के विकास की राह में बाधा थी धारा 370। जब से धारा 370 हिंदुस्तान का हिस्सा बनी थी, तभी से हम मांग करते रहे हैं कि धारा 370 अस्थाई है, उसको हटा दिया जाए। हमारी तैयारी भी उसी दिन से चल रही थी। हमारे एजेंडे में तो ये शुरू से था। जब नहीं हो रहा था तो आप सवाल करते थे, धारा 370 का क्या कर रहे हैं और जब हमने हटा दिया तो उल्टे फिर आप ही सवाल कर रहे हो कैसे हटा दिया

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Amit Shah Attacks on Arvind Kejriwal Ahead of Delhi Assembly Election in Hindustan Purvodaya 2019