ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशकांग्रेस नेता ने दक्षिण भारत को अलग देश बताया और पार्टी चुप रही, अमित शाह बोले- यह खतरनाक

कांग्रेस नेता ने दक्षिण भारत को अलग देश बताया और पार्टी चुप रही, अमित शाह बोले- यह खतरनाक

अमित शाह ने दक्षिण बनाम उत्तर भारत की बहस को खतरनाक बताया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता ने दक्षिण भारत को अलग देश ही बता दिया था और पार्टी इस पर चुप रही। देश का विभाजन दोबारा नहीं हो सकता।

कांग्रेस नेता ने दक्षिण भारत को अलग देश बताया और पार्टी चुप रही, अमित शाह बोले- यह खतरनाक
Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 17 May 2024 11:25 AM
ऐप पर पढ़ें

इस देश को दोबारा बांटा नहीं जा सकता। दक्षिण भारत को अलग देश मानना बहुत आपत्तिजनक है। होम मिनिस्टर अमित शाह ने बीआरएस नेता केटीआर के बयान पर यह बात कही। यही नहीं उन्होंने इस दौरान कांग्रेस पर भी निशाना साधा और कई महीने पहले सांसद डीके सुरेश के दिए बयान पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा था कि उत्तर और दक्षिण भारत को बांट दो और कांग्रेस ने इस बयान से खुद को अलग नहीं किया। शाह ने कहा कि उत्तर भारत को दक्षिण भारत से कभी अलग नहीं किया जा सकता। डीके सुरेश के बयान पर पीएम मोदी ने भी राज्यसभा में आपत्ति जताई थी।

उत्तर-दक्षिण विभाजन पर बीआरएस नेता केटी रामा राव की टिप्पणी पर अमित शाह ने कहा कि दक्षिण भारत को एक अलग देश मानना बहुत ही आपत्तिजनक है। शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा था कि उत्तर और दक्षिण भारत को बांट दो और कांग्रेस ने इस बयान से खुद को अलग नहीं किया। पिछले हफ्ते बीआरएस नेता केटीआर ने कहा था कि उत्तर भारत पूरी तरह से एक अलग देश है। यह एक अलग दुनिया है, मैं इसे शाब्दिक रूप से नहीं कह रहा हूं लेकिन यह व्यावहारिक रूप से एक अलग देश है। 

केटीआर ने आगे कहा था कि मुझे लगता है कि जो मुद्दे उत्तर भारत में मुख्य हैं वे दक्षिण भारत के मुद्दों से अलग हैं। यहां के लोग अलग तरह से सोचते हैं और यही कारण है कि भाजपा दक्षिण में मजबूत नहीं है। केटीआर के बयान पर पलटवार करते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि लोकसभा चुनाव में भाजपा दक्षिण भारत में बेहतर प्रदर्शन करेगी। भाजपा पांच दक्षिणी राज्यों केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी बनने जा रही है।
 
हिंदी पट्टी के राज्यों से आगे हैं दक्षिण के 5 स्टेट

बता दें कि केटीआर ने कहा था कि यह सरकारों की गलती है कि वे अच्छा प्रशासन करने में सक्षम नहीं हैं। उनकी प्राथमिकताएं गलत जगह हैं। ऐसा लगता है कि वे अपने लोगों को पीछे रखकर और सिर्फ भावनाओं से खेलकर वोट हासिल कर रहे हैं। दक्षिण में ऐसा नहीं है, हम यहां बड़े और वास्तविक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करते हैं। दक्षिणी राज्यों की प्रगति और विकास की तुलना करते हुए उन्होंने कहा था कि तेलंगाना, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, केरल और तमिलनाडु के इन्फ्रास्ट्रक्चर, शिक्षा, साक्षरता दर और स्वास्थ्य पैरामीटर किसी भी सूचकांक को देखें हम किसी भी अन्य राज्य से बहुत आगे हैं, खासकर हिंदी पट्टी के राज्यों से। 

तेलंगाना के मुकाबले यूपी, बिहार को बताया था बहुत पीछे

प्रति व्यक्ति आय पर बीआरएस नेता केटीआर ने दावा करते हुए कहा कि तेलंगाना की प्रति व्यक्ति आय 357 रुपये है, जो उत्तरी भारत के अन्य राज्यों की तुलना में सबसे अधिक है। उन्होंने आगे कहा कि तेलंगाना में प्रति व्यक्ति आय 357 रु. और  बिहार में 57 रु. जबकि उत्तर प्रदेश में 87 रुपये है।