ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशअपने पिता से ज्यादा चुनौतियां झेल रहे राहुल गांधी, अमेठी के सांसद ने बताई वजह

अपने पिता से ज्यादा चुनौतियां झेल रहे राहुल गांधी, अमेठी के सांसद ने बताई वजह

किशोरी लाल शर्मा ने इस बार गांधी परिवार के गढ़ अमेठी से भाजपा की दिग्गज और पूर्व मंत्री स्मृति ईरानी को 1.60 लाख से अधिक मतों से हराया। दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गांधी अमेठी से चार बार सांसद रहे।

अपने पिता से ज्यादा चुनौतियां झेल रहे राहुल गांधी, अमेठी के सांसद ने बताई वजह
amethi mp kishori lal sharma said rahul gandhi facing more challenges than his father
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 18 Jun 2024 06:24 PM
ऐप पर पढ़ें

हाल ही में संपन्न हुए लोकसभा चुनावों में भारी मतों से जीत हासिल करने वाले 62 वर्षीय किशोरी लाल शर्मा ने राहुल गांधी को लेकर बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी इस समय अपने पिता राजीव गांधी से भी ज्यादा चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। गौरतलब है कि किशोरी लाल शर्मा ने इस बार गांधी परिवार के गढ़ उत्तर प्रदेश के अमेठी से भाजपा की दिग्गज और पूर्व मंत्री स्मृति ईरानी को 1.60 लाख से अधिक मतों से हराया। दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गांधी अमेठी से चार बार सांसद रहे, जबकि राहुल गांधी और सोनिया गांधी ने क्रमशः तीन और एक बार इस सीट का प्रतिनिधित्व किया है। वहीं किशोरी लाल शर्मा की बात करें तो वह पिछले चार दशकों से गांधी परिवार के साथ हर अच्छे-बुरे समय में जुड़े रहे हैं। 

अपने गृहनगर लुधियाना पहुंचे किशोरी लाल शर्मा ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने राजीव गांधी को करीब से काम करते हुए देखा। उन्होंने कहा, "मैं इंदिरा गांधी से सिर्फ दो बार मिला, क्योंकि नवंबर 1983 में मेरे अमेठी पहुंचने के तुरंत बाद ही उनकी हत्या कर दी गई थी। लेकिन हां, मैंने राजीव गांधी को सभी भूमिकाओं में बहुत करीब से देखा है, फिर चाहे वह सांसद हों, प्रधानमंत्री या विपक्ष के नेता। 1983 से लेकर उनकी मृत्यु तक मेरा उनसे लंबा जुड़ाव रहा। राजीव और राहुल के बीच एक समानता यह है कि वे बड़ों का सम्मान करते हैं। मुझे यह भी लगता है कि राहुल को अपने पिता की तुलना में राजनीतिक रूप से ज्यादा चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।"

किशोरी लाल ने इसको लेकर विस्तार से बताया। उन्होंने कहा, "राजीव गांधी के समय में बहुत ज्यादा क्षेत्रीय पार्टियां नहीं थीं। अगर थीं भी तो वे इतनी मजबूत नहीं थीं। कांग्रेस की स्थिति अच्छी थी, खासकर यूपी में। लेकिन जब राहुल ने कमान संभाली, तब कई क्षेत्रीय पार्टियां उभरीं। राहुल उन सभी का सामना कर रहे हैं। उनके सामने बहुत ज्यादा चुनौतियां हैं। आज सांप्रदायिकता भी बहुत ज्यादा है। राजीव और राहुल दोनों ही बहुत मेहनती रहे हैं, लेकिन हां, राहुल को राजनीतिक रूप से कहीं ज्यादा चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।"

इस दौरान उन्होंने प्रियंका गांधी की भी खूब तारीफ की। उन्होंने कहा, "मैं पार्टी का एक छोटा सा सिपाही हूं और इस पर ज्यादा टिप्पणी नहीं कर सकता, लेकिन प्रियंका गांधी की खूबी यह है कि वे बहुत कम समय में लोगों से घुलमिल जाती हैं।" चुनाव आयोग द्वारा घोषित परिणाम के मुताबिक अमेठी से कांग्रेस के किशोरी लाल शर्मा को पांच लाख 39 हजार 228 वोट मिले, जबकि ईरानी को तीन लाख 72 हजार 32 मत प्राप्त हुए। बसपा उम्मीदवार नन्हे सिंह चौहान 34 हजार 534 मत पाकर तीसरे स्थान पर रहे।

अमेठी लोकसभा सीट नेहरू-गांधी परिवार का सियासी गढ़ मानी जाती रही है। शर्मा मतगणना की शुरुआत से ही आगे चल रहे थे और चक्र दर चक्र उनकी बढ़त मजबूत होती गयी। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में अमेठी से कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को 55120 हराकर बड़ा उलटफेर करने वाली स्मृति इस सीट से लगातार दूसरी बार मैदान में थीं। शुरू में कांग्रेस की तरफ से इस बार भी अमेठी से राहुल के ही मैदान में उतरने की अटकलें लगायी जा रही थीं, मगर ऐन वक्त पर पार्टी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के करीबी सहयोगी रहे किशोरी लाल शर्मा को मैदान में उतारकर सबको चौंका दिया था।