DA Image
2 जून, 2020|9:03|IST

अगली स्टोरी

कोरोना वायरस लॉकडाउन में मंदिर, मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारा बंद, धार्मिक सभा बैन, अंतिम यात्रा में 20 से ज्यादा लोग नहीं

गुरुद्वारा बंगला साहिब

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मानव सभ्यता के सामने खतरा बनकर उभरे कोरोना वायरस की बीमारी को फैलने से रोकने के लिए पूरे भारत में 14 अप्रैल तक 21 दिन के नेशनल लॉकडाउन की घोषणा की है। तीन सप्ताह लंबे इस लॉकडाउन में जरूरी सेवाओं और उससे जुड़े लोगों को छोड़कर बाकी लोगों से घरों पर ही रहने की अपील की गई है और चेतावनी दी गई है कि उल्लंघन करने पर कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।

प्रधानमंत्री मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन के बाद गृह मंत्रालय ने डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत 6 पेज का गाइडलाइन जारी किया है जिसमें बताया गया है कि लॉकडाउन के दौरान क्या खुला रहेगा, क्या बंद।

कोरोना वायरस लॉकडाउन गाइडलाइंस में सरकार ने साफ कर दिया है अगले 21 दिन पूरे देश में पूजा-पाठ, प्रार्थना, इबादत घर में ही किए जाएं और इस दौरान मंदिर, मस्जिद, चर्च और गुरुद्वारा समेत सारे धार्मिक स्थल आम लोगों के लिए बंद रहेंगे।

कोरोना वायरस नेशनल लॉकडाउन में 14 अप्रैल तक फ्लाइट, ट्रेन, बस, टैक्सी और प्राइवेट कार बंद, 21 दिन बस इनको छूट

गाइडलाइंस में ये भी स्पष्ट किया गया है कि बिना किसी अपवाद या छूट के किसी भी धार्मिक सभा को लॉकडाउन के दौरान इजाजत नहीं दी जाएगी। इसका मतलब ये है कि आने वाले 21 दिन में आम लोगों को घर में ही पूजा पाठ और इबादत करनी होगी।

अंतिम यात्रा में अधिकतम 20 लोग शामिल हो सकेंगे: लॉकडाउन गाइडलाइंस में ये भी कहा है कि अगले तीन सप्ताह में किसी के निधन पर अंतिम यात्रा, जनाजे या दाह संस्कार में ज्यादा से ज्यादा 20 लोगों को शामिल होने की इजाजत दी जाएगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:All India Coronavirus Lockdown Guidelines closed places of worship bans religious congregations restricts people in funeral in COVID 19 Pan India Restriction