DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  राजधानी के 24 इलाकों की हवा जहरीली, बारिश से ही मिलेगी राहत

देशराजधानी के 24 इलाकों की हवा जहरीली, बारिश से ही मिलेगी राहत

प्रमुख संवाददाता ,नई दिल्लीेPublished By: Gunateet
Mon, 14 Jan 2019 05:56 AM
राजधानी के 24 इलाकों की हवा जहरीली, बारिश से ही मिलेगी राहत

राजधानी के लोगों को जहरीली हवा में सांस लेना पड़ रहा है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, रविवार को दिल्ली के 24 इलाकों में वायु गुणवत्ता गंभीर श्रेणी में रही। वहीं, सात इलाकों में यह बेहद खराब श्रेणी में दर्ज की गई। 

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड  द्वारा संचालित वायु गुणवत्ता एवं मौसम पूर्वानुमान प्रणाली (सफर)  के मुताबिक, अगर बारिश नहीं होती है तो अगले तीन दिनों में छोटे-मोटे उतार-चढ़ाव के साथ वायु गुणवत्ता और खराब हो सकती है। मौसमी स्थितियों के अनुकूल नहीं होने के चलते लोगों को प्रदूषण की मुसीबत अभी कुछ और दिनों तक झेलनी पड़ेगी।

लगातार दूसरे दिन हवा जहरीली : दिल्ली की वायु गुणवत्ता लगातार दूसरे दिन रविवार को गंभीर श्रेणी में बनी रही। सीपीसीबी के मुताबिक रविवार को औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 414  रहा। इस स्तर की हवा को गंभीर श्रेणी में रखा जाता है। शनिवार को भी वायु गुणवत्ता का स्तर गंभीर श्रेणी में 423  था। सीपीसीबी के मुताबिक हवा में घुले दोनों मुख्य प्रदूषक कण पीएम 10 और पीएम 2.5 की मात्रा भी स्वीकार्य मानकों से चार गुने से भी ज्यादा बनी हुई है। रविवार शाम 5 बजे हवा में पीएम 10 कणों की मात्रा 423.2 और पीएम 2.5 कणों की मात्रा 271.6 रही। यह आपात स्थिति से कुछ ही अंक नीचे है।

बादलों से मायूसी: उत्तर भारत में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ की गति को देखकर मौसम विभाग ने दिल्ली में भी हल्की बूंदाबांदी का पूर्वानुमान जताया था। इस दौरान जम्मू-कश्मीर से लेकर पंजाब, हरियाणा व राजस्थान में बारिश हुई, लेकिन दिल्ली तक पहुंचने से पहले ही यह तंत्र कमजोर पड़ गया। इससे दिल्ली में बारिश नहीं हुई। 14, 15 व 16 जनवरी को दिल्ली के कुछ हिस्सों में हल्के बादल छाए रहेंगे, लेकिन इनसे बूंदाबांदी होने के आसार कम ही हैं।

नेहरू नगर सबसे प्रदूषित

नेहरू नगर 469

वजीरपुर 450

अशोक विहार 445

आनंद विहार 438

बवाना 436

दिलशाद गार्डन 434

रोहिणी 432

सिरीफोर्ट 423

बूंदाबांदी से ही राहत मिलेगी

मौसम विभाग के अनुसार, अगर बूंदाबांदी होती है तो राजधानी में लोगों को दम घोंटने वाले प्रदूषण से कुछ हद तक राहत मिल सकती है। मगर रविवार को भी बूंदाबांदी नहीं होने से यह संभावना भी समाप्त हो गई।  

सात भीड़भाड़ वाले इलाके  प्रदूषण में इजाफा कर रहे 

पीरागढ़ी चौक 

कारण : ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन, जाम, अतिक्रमण, अवैध पार्किंग

उपाय  : पीरागढ़ी के पास एफओबी का निर्माण, सर्विस रोड का निर्माण, अतिक्रमण को हटाया जाना

आजादपुर 

कारण : 5000 ट्रकों का 2.5 किमी क्षेत्र में रोजाना परिचालन 

उपाय  : बस स्टॉप को दूसरी जगह स्थानांतरित करना, सड़क विस्तार

उद्योग विहार

कारण: झुग्गी बस्तियों की बढ़ती संख्या, अवैध पार्किंग 

उपाय : पुल को और अधिक चौड़ा करना, धार्मिक स्थल को दूसरी जगह स्थानांतरित करना

टीकरी बहादुरगढ़ 

कारण : अधिक ट्रैफिक के कारण भीड़भाड़ की स्थिति 

उपाय  : सर्विस रोड की मरम्मत और  डिवाइडर के आसपास ग्रिल लगाया जाना

सोहन पार्क, मुंडका 

कारण : सड़कें खराब, भारी वाहनों की अधिकता से लगातार जाम की स्थिति

उपाय  : सड़क की मरम्मत, रोहतक रोड पर मुंडका के पास कट खोलना

आनंद पर्वत-सराय रोहिला

कारण : तीनों चौराहों पर ट्रैफिक जाम की समस्या, भारी वाहनों की अधिक संख्या

उपाय : इस क्षेत्र को भीड़भाड़ मुक्त करने के लिए रोड के डिजाइन में परिवर्तन करना 

सरकार भारत-चीन सीमा पर 44 सड़कों का निर्माण करेगी, CPWD को जिम्मेदारी

तूफान आने से घंटों पहले मिलेगी चेतावनी, मौसम विभाग तैयार कर रहा मॉडल

संबंधित खबरें