DA Image
8 अप्रैल, 2020|10:33|IST

अगली स्टोरी

महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव को बर्थ देने पर ओवैसी ने उठाया सवाल, PMO को दिलाई संविधान की याद

asaduddin owaisi


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को वाराणसी से काशी महाकाल एक्सप्रेस को रवाना किया। यह एक्सप्रेस ट्रेन दो राज्यों के तीन ज्योतिर्लिंगों की यात्रा कराएगी। इस ट्रेन में एक सीट भगवान शिव के लिए भी आरक्षित रखी गई है। इस फैसले पर हैदराबाद से सांसद और एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल खड़े किए है और प्रधानमंत्री कार्यालय को एक ट्वीट किया है। 

असदुद्दीन ओवैसी ने न्यूज एजेंसी का एक ट्वीट को रिट्वीट करते हुए पीएमओ को टैग किया है। इस ट्वीट के साथ ओवैसी ने संविधान की प्रस्तावना को शेयर किया है। आपको बता दें कि संविधान की प्रस्तावना में सभी धर्मों के लोगों के साथ एक समान व्यवहार करने के बारे में लिखा गया है।

 

ओवैसी ने एएनआई के जिस ट्वीट को रिट्वीट किया है उसमें शेयर की गई फोटो में काशी महाकाल एक्सप्रेस की एक सीट पर भगवान शिव की मूर्ति लगाई गई है और बर्थ में भगवान शिव की पूजा भी की जा रही है। ट्वीट में लिखा है कि कोच संख्या बी5 की सीट संख्या 64 भगवान के लिए खाली की गई है। इस ट्रेन केा प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हरी झंडी दिखाई। रेलवे ने आईआरसीटीसी संचालित तीसरी सेवा शुरू की है। यह ट्रेन उत्तर प्रदेश के वाराणसी से मध्य प्रदेश के इंदौर तक जाएगी।

उत्तरी रेलवे के लिए प्रवक्ता दीपक कुमार ने कहा, ''ऐसा पहली बार हुआ है जब एक सीट भगवान शिव के लिए आरक्षित और खाली रखी गई है।" उन्होंने कहा, ''सीट पर एक मंदिर भी बनाया गया है ताकि लोग इस बात से अवगत हों कि यह सीट मध्य प्रदेश के उज्जैन के महाकाल के लिए है।” कुमार ने कहा कि ऐसा स्थायी तौर पर करने के लिए विचार किया जा रहा है।

वाराणसी से इंदौर के बीच सप्ताह में तीन बार चलने वाली इस ट्रेन में भक्ति भाव वाली हल्की ध्वनी से संगीत बजेगा और प्रत्येक कोच में दो निजी गार्ड होंगे और यात्रियों को शाकाहारी खाना परोसा जाएगा।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:AIMIM president Asaduddin Owaisi tweets to PMO over berth for Lord Shiva in Kashi-Mahakal Express