DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंजीनियरिंग के आधे छात्रों को प्लेसमेंट नहीं

engineering

इंजीनियरिंग संस्थानों से पास हो रहे आधे से अधिक छात्रों का प्लेसमेंट नहीं हो पा रहा है। वहीं आईआईटी, एनआईटी और ट्रिपल आईटी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों के भी 23% छात्रों को पढ़ाई के दौरान नौकरी नहीं मिली।

मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने सोमवार को एक सवाल के जवाब में लोकसभा में यह जानकारी दी। आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2017-18 में गैर एलीट संस्थानों से पाठ्यक्रम पूरा करने वाले 7.93 लाख छात्रों में केवल 3.59 लाख छात्रों का ही प्लेसमेंट हो पाया। यही स्थिति वर्ष 2018-19 में भी रही।

निशंक ने बताया कि इसी साल आईआईटी, एनआईटी और ट्रिपल आईटी से पास आउट होने वाले कुल 23,298 छात्रों में 5,352 छात्र बिना प्लेसमेंट के रहे। उन्होंने कहा कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद अगले सत्र में रोजगार की कम संभावना वाले पाठ्यक्रमों को अनुमति नहीं देगा।

एनआईए दुनिया के किसी भी कोने में कर सकेगी जांच

रोजगार हासिल करने की कम संभावना वाले पाठ्यक्रम की अनुमति नहीं देगा एआईसीटीई
मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने सोमवार को कहा कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) शैक्षणिक सत्र 2020-21 से इंजीनियरिंग में ऐसे पारंपरिक पाठ्यक्रमों की अनुमति नहीं देगा जिसमें रोजगार हासिल करने की कम संभावना होती है। लोकसभा में शून्यकाल के दौरान पूरक प्रश्नों के उत्तर में निशंक ने यह भी कहा कि आगे से 'आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस' जैसे उभरते क्षेत्र से जुड़े पाठ्यक्रमों को मंजूरी दी जाएगी।

उन्होंने यह भी कहा कि इंजीनियरिंग के छात्रों को प्रशिक्षित किया जा रहा है ताकि वे सरकार के 'मेक इन इंडिया' कार्यक्रम का हिस्सा बन सकें। पूरक प्रश्न पूछने के दौरान कांग्रेस के शशि थरूर ने दावा किया कि उद्योग क्षेत्र की मांग और इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों के प्रारूप में कोई समानता नहीं है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर परोक्ष रूप से कटाक्ष करते हुए कहा कि अगर मांग और पाठ्यक्रम में असमानता को दूर कर दिया जाए तो फिर युवाओं को रोजगार के लिए 'पौकड़ा तलने की सलाह नहीं देनी पड़ेगी।

चिंताजनक
* 7.93 लाख छात्रों में केवल 3.59 लाख का हुआ कैंपस प्लेसमेंट।
* आईआईटी,एनआईटी के 23% छात्र भी इस श्रेणी में।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:AICTE not to allow low employment potential disciplines from 2020 21 says HRD Minister Ramesh Pokhriyal Nishank in Lok Sabha