DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राहुल गांधी के हस्तक्षेप से टला कनार्टक संकट, कुमारस्वामी ने की असंतुष्ट विधायकों से बात

Testing ground with their alliance, the Congress and Janata Dal Secular have scored a 4:1 win over t

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और जनता दल (एस) नेता एवं मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी (Kumaraswamy) के सीधे हस्तक्षेप के बाद कांग्रेस के असंतुष्ट विघायकों की नाराजगी से राज्य में उपजा राजनीतिक संकट फिलहाल टलता प्रतीत होता है। 

पार्टी के शीर्ष सूत्रों के मुताबिक, कुमारस्वामी ने पार्टी के सभी नाराज अधिकांश विधायकों से सीधी बातचीत की। इन कांग्रेसी विधायकों को कथित तौर पर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के 'कब्जे' में बताया जाता है। सूत्रों ने कहा कि दो निर्दलीय उम्मीदवारों द्वारा सरकार को समर्थन वापस लेने से चिंतित कुमारस्वामी ने बीजेपी के खिलाफ कड़ा कदम उठाया और राहुल गांधी की रणनीतिक मंजूरी मिलने के बाद कांग्रेस के विधायकों को समझाने का बीड़ा उठाया।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 122 करोड़ खर्च किए

राहुल गांधी के आश्वासन से लैस मुख्यमंत्री ने असंतुष्ट विधायकों को उनके निर्वाचन क्षेत्रों में अधिक आवंटन तथा उनके लाभ के लिए अन्य कदम उठाने का भी भरोसा दिया ताकि राज्य में जारी राजनीतिक संकट से बाहर निकला जाए।

इसका मतलब यह भी हुआ कि कांग्रेस आलाकमान ने पूर्व मुख्यमंत्री तथा गठबंधन सरकार की संयुक्त समन्वय समिति के प्रमुख सिद्दारामैया और उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर समेत राज्य नेतृत्व को दरकिनार कर दिया है। सूत्रों ने कहा, “असंतुष्ट कांग्रेस विधायकों के पार्टी के महासचिव के सी वेणुगोपाल समेत राज्य के किसी भी नेता से बात करने से इनकार के बाद ही मुख्यमंत्री सात माह पुरानी जद (एस)-कांग्रेस गठबंधन सरकार को बचाने के लिए खुद को आगे ले गए।”

कर्नाटक संकट: गुरुग्राम में BJP विधायकों से मिल सकते हैं येदियुरप्पा

सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष से समर्थित मुख्यमंत्री ने फोन पर सभी असंतुष्ट कांग्रेस विधायकों से बात की और उनकी शिकायतों को ध्यान से सुना। इस बीच, कनार्टक में अपने राजनीतिक खेल में 'बदनामी' के बाद बीजेपी नेता बचाव की मुद्रा में आ चुके हैं तथा उन्होंने कहा कि गठबंधन सरकार को गिराने का कोई प्रयास नहीं किया गया।

कर्नाटक: कांग्रेस ने असंतुष्ट विधायकों को मंत्री बनाने का दिया भरोसा

बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता, वामन आचार्य ने इस बात से इनकार किया कि कांग्रेस नेताओं का 'शिकार' बनने के भय से 101 भाजपा विधायकों को हरियाणा ले जाया गया था। उन्होंने कहा, “हमारे विधायकों को पाटीर् के कार्यक्रम में ले जाया गया था और उसका राज्य सरकार को गिराने की कवायद से कोई लेना-देना नहीं था। यदि कांग्रेस के नेता अपने विधायकों को एक साथ रखने की स्थिति में नहीं हैं, तो इसके लिए भाजपा को दोषी नहीं ठहराया जा सकता है।”
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:After Rahul Gandhi intervention Karnataka crisis end CM Kumaraswamy speaks with Dissatisfied MLAs