DA Image
17 अक्तूबर, 2020|6:37|IST

अगली स्टोरी

कृषि बिल के बाद अब इन 3 विधेयकों पर सदन में दिखेगी तकरार, सरकार और विपक्ष तैयार

after farmers bills parties gear up to oppose three labour code bills in parliament

लोकसभा और राज्यसभा में कृषि सुधार बिलों के पारित होने का जमकर विरोध करने वाला विपक्ष अब संसद में आने वाले श्रम सुधार कानूनों का विरोध करने की तैयारी कर रहा है। इनमें से एक औद्योगिक संबंध संहिता में एक प्रावधान जो 300 कर्मचारियों के साथ कंपनियों को संबंधित राज्य सरकार की मंजूरी के बिना लोगों की छंटनी करने की अनुमति देता है। आपको बता दें कि मौजूदा कानून के तहत 100 लोगों को रोजगार देने वाली कंपनियों के लिए सिर्फ यह सुविधा उपलब्ध है।

केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने शनिवार को लोकसभा में सामाजिक सुरक्षा, औद्योगिक संबंधों और व्यावसायिक और स्वास्थ्य सुरक्षा पर तीन लेबर कोड पेश की। चौथा कोड मजदूरी पर है, जिसे संसद द्वारा पहले ही पास कर दिया गया है।

लंबे समय से लंबित श्रम सुधार बिल पुराने श्रम कानूनों को कोड में बदल देगा। सरकार का दावा है कि तीनों कोड के लिए स्थायी समिति की 233 सिफारिशों में से 174 को शामिल किया गया है। विपक्ष ने नए बिल का दावा किया था, जो कि मूल संस्करणों की जगह हो और पैनल द्वारा नए सिरे से उसकी समीक्षा की जानी चाहिए।

औद्योगिक संबंध संहिता विधेयक 2019, व्यावसायिक सुरक्षा, स्वास्थ्य और कार्य की स्थिति कोड, 2020 और सामाजिक सुरक्षा पर कोड, 2020 पर अगले कुछ दिनों तक चर्चा होगी, जो विपक्ष और सरकार के बीच नए सिरे से टकराव के की स्थिति को पैदा करता है।

औद्योगिक संबंध बिल ट्रेड यूनियनों के दायरे को फिर से परिभाषित करता है। सामाजिक सुरक्षा कोड का उद्देश्य प्रवासियों सहित सभी श्रमिकों के लिए एक सामाजिक सुरक्षा नेटवर्क बनाना है और OSH कोड कंपनियों के लिए स्वास्थ्य सुरक्षा मानदंडों के लिए मानक निर्धारित करता है।

पहले से ही, कांग्रेस के नेता जैसे शशि थरूर और मनीष तिवारी और वाम नेतृत्व श्रम सुधारों के विरोधी हैं।

मनीष तिवारी चाहते हैं कि नए कोड एक महीने के लिए सार्वजनिक डोमेन में रखे जाएं क्योंकि उनमें काफी बदलाव देखे गए हैं। थरूर ने मांग की है कि सरकार स्थायी समिति की सिफारिशों को पूरी तरह से स्वीकार कर ले। उन्होंने मंत्री से सवाल किया, "इसे अदालत में संवैधानिक चुनौती का सामना करना होगा। क्या आप फिर से न्यायिक जांच चाहते हैं?"

संतोष गंगवार ने विधेयक को पेश करते हुए कहा, "सरकार ने कोडों के मसौदा चरण के दौरान नौ त्रिपक्षीय परामर्श और 10 अंतर-मंत्रालयी परामर्श आयोजित किए हैं।"

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:After Farmers Bills Parties gear up to oppose three labour code bills in Parliament