DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमित शाह ने कहा, 370 हटने से घाटी में आतंक मिटेगा; भूमि पर फैसले का हक राज्य के पास

amit shah pti file

गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि अनुच्छेद 370 के प्रावधान हटने के दूरगामी परिणाम दिखेंगे। इससे कश्मीर में आतंकवाद का खात्मा होगा और  पूरा क्षेत्र विकास के पथ पर आगे बढ़ेगा। उन्होंने यह भी कहा कि इसे हटाने का फैसला तो बहुत पहले ही हो जाना चाहिए था। उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू पर एक किताब का विमोचन करते हुए शाह ने कहा कि उनका दृढ़ता से मानना था कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के  प्रावधानों को हटाया जाना चाहिए क्योंकि इससे देश को कोई फायदा नहीं था। जम्मू-कश्मीर पर फैसले के बाद गृह मंत्री ने इस मामले पर पहली बार बयान दिया है।

मन में कोई भ्रम नहीं था : शाह ने कहा कि अनुच्छेद 370 पर फैसले को लेकर उनके मन में कोई भ्रम नहीं था। शाह ने 370 से संबंधित विधेयक के राज्यसभा में पारित होने पर  उपराष्ट्रपति नायडू को श्रेय देते हुए उनके प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि उन्हें आंध्र प्रदेश के बंटवारे के दौरान बने हालात के दोहराने की आशंका थी।

दर्द महसूस किया जा सकता है : गृहमंत्री ने नायडू के छात्र जीवन के समय कश्मीर पर उनके विचार की एक कहानी भी बताई। उन्होंने कहा कि एक बार कम्युनिस्ट प्रोफेसर ने उपराष्ट्रपति से सवाल किया था कि ऐसे राज्य के लिए क्यों संघर्ष कर रहे हैं जिसे देखा नहीं। शाह ने कहा कि इस पर नायडू ने जवाब दिया था कि एक आंख दूसरे आंख को भले देख नहीं सकता लेकिन उसका दर्द महसूस किया जा सकता है। 

फैसले को राष्ट्रहित में बताया : उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने अनुच्छेद 370 पर सरकार के फैसले का समर्थन करते हुए इसे राष्ट्र के हित में बताया। उन्होंने कहा कि इसका राजनीतिक मुद्दे के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।  उन्होंने कहा कि इस विधेयक के पारित होने को लेकर शाह की प्रशंसा हो रही है।

कश्मीर भारत का अभिन्न अंग : उपराष्ट्रपति ने कहा कि अनुच्छेद 370 को राजनीतिक मुद्दे के रूप में नहीं बल्कि एक राष्ट्रीय मुद्दे के रूप में इस्तेमाल किया जाना चाहिए कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। नायडू ने कहा कि यह समय की मांग है और देश के लोगों को जम्मू कश्मीर के अपने साथियों के साथ खड़े रहना चाहिए।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा, "अब बिल पारित हो गया है, तो मैं बोल सकता हूं कि अनुच्छेद 370 पर फैसला समय की मांग है। यह अच्छी बात है।"

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा, "इस कदम के बाद क्या होगा इस बारे में मन में जरा भी भ्रम नहीं था। मोदी के नेतृत्व में भाजपा सरकार ने इस देश को अनुच्छेद 370 से मुक्त कराया।"

कड़ी सुरक्षा के बीच मनाई जाएगी ईद
कश्मीर में सोमवार को ईद उल अजहा कड़ी सुरक्षा के बीच मनाई जाएगी। ईद पर नमाज के दौरान कड़ी सुरक्षा रहेगी। प्रशासन सरकारी वैन के जरिए लोगों के घरों तक सब्जियां, एलपीजी, चिकन, अंडे आदि पहुंचा रहा है। ईद के मद्देनजर 300 टेलिफोन बूथ बनाए गए हैं, जिसके जरिए आम लोग रिश्तेदारों से बात कर सकेंगे। इसके साथ राज्य में छुट्टी के दिन बैंक और एटीएम भी खुले रहे।

भूमि पर फैसले का हक राज्य के पास
केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर में कानून व्यवस्था व पुलिस का नियंत्रण उपराज्यपाल के माध्यम से सीधे केंद्र के हाथों में होगा। जबकि भूमि वहां की निर्वाचित सरकार के अधीन एक विषय होगा। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद दो केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर और लद्दाख 31 अक्तूबर से अस्तित्व में आएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:After Article 370 Scrapped Terrorism End in Jammu Kashmir Says Amit Shah