DA Image
23 फरवरी, 2020|1:28|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

EXCLUSIVE: गणतंत्र दिवस के पहले अफगानी आतंकियों की घुसपैठ का खतरा, पाकिस्तानी रेंजर्स कर रहे मदद

गणतंत्र दिवस के पहले सीमापार से अफगानी आतंकियों की घुसपैठ का खतरा बढ़ गया है। सीमा सुरक्षा बल को घुसपैठ की आशंका के मद्देनजर कश्मीर, पंजाब, राजस्थान से सटी सीमाओं पर खास सतर्कता बरतने को कहा गया है। बीएसएफ के जवान इस मौके पर किसी भी आतंकी वारदात को नाकाम करने को पूरी तरह से मुस्तैद किए गए हैं। पहाड़ी सीमाओं पर ठंड के साथ सर्द हवाओं के बीच भी सुरक्षाकर्मी तैनात हैं।

खुफिया रिपोर्ट में आशंका जताई गई है कि आतंकी लॉन्च पैड से मसरूर बड़ा भाई के जरिए पाकिस्तान अफगानी और तालिबानी आतंकियों की घुसपैठ करा सकता है। इन आतंकियों की मदद पाकिस्तान रेंजर्स कर रहे हैं। सुरक्षा बलों ने कुछ फोन कॉल भी इंटरसेप्ट किये हैं। जिससे घुसपैठ की साजिश का पता चलता है।

यह भी संभावना जताई गई है कि पाकिस्तान ड्रोन के जरिए हथियार भी भेज सकता है। बीएसफ सूत्र बताते हैं कि आतंकी कमांडर पाक आर्मी और आईएसआई की मदद से प्री प्रोग्राम्ड ड्रोन का इस्तेमाल हथियार भेजने के लिए कर सकते हैं। सूत्रों ने कहा कि तस्करों के जरिये हथियारों की खेप भेजने का मॉड्यूल भी आतंकी इस्तेमाल कर सकते हैं। इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट, अटारी बॉर्डर, हुसैनीवाला बॉर्डर और करतारपुर कॉरिडोर पर अलर्ट जारी कर दिया गया है।

बीएसफ ने इन जगहों पर अतिरिक्त सुरक्षा बढ़ाई

बीएसएफ ने जम्मू के 13 छोटे नाले और 3 बड़ी नदियों में भी अलर्ट बढ़ा दिया है।  सूत्रों ने कहा, बीएसएफ ने सिर्फ जम्मू ही नहीं पंजाब की नदियों वाले इलाके में भी अलर्ट जारी कर दिया है। इन क्षेत्रों में इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस भी बढ़ाया गया है। खुफिया एजेंसियों ने आगाह किया है कि कश्मीर में सुरक्षाबलों की खास तैनाती की वजह से आतंकियों की अन्य सीमाओं पर निगाह है। गुजरात के हरामी नाले के इलाके से लश्कर के आतंकियों के घुसपैठ की आशंका जताई गई है। इसके चलते बीएसएफ ने फास्ट अटैक क्राफ्ट और ऑल टेरेन व्हीकल की गस्ती बढ़ा दी है। इन सीमाओं पर जवानों की तैनाती भी बढ़ाई गई है।

ये भी पढ़ें: कश्मीर पर भारत के फैसले का जवाब देने के लिए पाकिस्तान के पास सीमित विकल्प: US रिपोर्ट

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Afghanistan terrorists trying to infiltrate before Republic Day by help of Pakistan Rangers